एसवीएम के चार छात्र टॉप-टेन में

शिमला—अखिल भारतीय शिक्षण संस्थान विद्या भारती द्वारा प्रदेश में चलाए जा रहे सरस्वती विद्या मंदिरों के छात्रों ने एक बार फिर हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की दसवीं की परीक्षा में टॉप के चार स्थान प्राप्त किए हैं। हिमाचल शिक्षा समिति ने टॉप में आए छात्र-छात्राओं को बधाई दी है, साथ ही विद्यालय के आचार्यों के प्रयासों को भी सराहा है। मंगलवार को विकासनगर हिमरश्मि परिसर में पत्रकार वार्ता की जानकारी देते हुए समिति के महामंत्री दिलाराम चौहान ने कहा कि हिमाचल शिक्षा समिति के रुप में 1980 में पावंटा साहिब में पहला सरस्वती विद्या मंदिर प्रारंभ किया गया। आज इनकी संख्या बढ़ कर 219 पहुंच गई है। प्रदेश के सभी 12 जिलों की 63 तहसीलों व 58 विािस खंडों में सरस्वती विद्या मंदिर चल रहे हैं। प्रदेश में 2 आवासीय विद्यालय भी हैं , जिनमें कम शुल्क पर बच्चों को प्रवेश दिया जाता है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 30070 छात्र-छात्राएं, 2148  अध्यापक व अध्यापिकाओं सानिध्य में शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। उसी का परिणाम है कि हर वर्ष प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की मेरिट सूची में सरस्वती विद्या मंदिर के छात्र-छात्राओं को स्थान मिल रहा है। सोमवार को जारी हुए 10वीं के परीक्षा परिणाम में सरस्वती विद्या मंदिर मंडी के पारस ने 690 लेकर बोर्ड में दूसरा, नम्होल के धु्रव शर्मा ने भी 690 अंक लेकर दूसरा, वहीं परागपुर की रुचिका सिंह ने 688 अंक लेकर चौथा और स.वि.म. भटेड  के रक्षित ने 685 अंक ले सातवां स्थान हासिल किया है। ज्ञात रहे कि सरस्वती विद्या मंदिर के छात्र लगातार छह वर्षों से हिमाचल प्रदेश बोडज़् की 10वीं और 12वीं की परीक्षा में मैरिट में स्थान अजिज़्त कर रहे हैं। महामंत्री दिलाराम ने कहा कि सरस्वती विद्या मंदिरों में सीमित साधनों के बावजूद शिक्षा के स्तर को ऊंचा करने के प्रयास हो रहे हैं। इसमें छात्र-छात्राओं को न केवल पुस्तक की शिक्षा बल्कि योग आधारित संस्कार युक्त शिक्षा देने का काम समिति कर रही है। उसी का परिणाम है कि अखिल भारतीय स्तर की योग व अन्य शारीरिक गतिविधियों में स्कूल को प्रथम और तृतीय स्थान हासिल हुआ है। प्रदेश के पांच सरस्वती विद्या मंदिरों में अटल टंकरिंग लैब स्थापित की है, जो बच्चों को व्यवहार विज्ञान की जानकारी देने में एक बेहतर साधन बन रहा है। इस अवसर पर हिमाचल शिक्षा समिति के मार्गदर्शक अच्छर सिंह ठाकुर और अध्यक्ष देवी रूप भी उपस्थित रहे।

You might also like