ओलों की मार से बागबान बेचैन

रामपुर बुशहर—मौसम इस बार बागबानों और किसानों पर भारी पड़ता नजर आ रहा है। मई माह में भी गर्मी न होने से सभी हैरान है वहीं मौसम खराब होने से ओलावृष्टि का खतरा बढ़ गया है। सोमवार को पंद्रहबीस क्षेत्र में ओलावृष्टि ने बागबानों को खासा नुकसान पहुंचाया। इससे सेब सहित जौ, गेहूं आदि की फसलों को भारी नुकसान हुआ है। ग्रामीणों ने प्रदेश सरकार से फसल को हुए नुकसान का मुआवजा देने की मांग की है। जानकारी के मुताबिक ओलावृष्टि से फांचा, नंती, टिक्कर, कांदरी व पशगाओं के लोगों को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। इस बात की जानकारी देते हुए फांचा पंचायत प्रधान सबेर चंद कश्यप ने बताया कि ओलावृष्टि से बागबानों और किसानों को आर्थिक नुकसान झेलने को मजबूर होना पड़ा है। पंचायत प्रधान ने कहा कि यहां के लोगों की आर्थिकी इन्हीं फसलों पर निर्भर करती और परिवार का गुजारा चलता है। ऐसे में फसल को नुकसान होने से भविष्य की चिंता सताने लगी है। उन्होंने ने कहा कि एक तो पहले ही मौसम बागबानी और किसानी के अनुकूल नहीं चल रहा है। मई माह मंें भी ऊंचाई वाले क्षेत्रों में लगातार ठंड बढ़ रही है। जिस कारण फसलों को नुकसान हो रहा है। ओलावृष्टि से सेब की फसल तो नुकसान हुआ है साथ में सेब के पौधों को भी क्षति पहुंची है। उन्होंने स्थानीय प्रशासन और प्रदेश सरकार से मुआवजे की मांग की है, ताकि लोगों को कुछ राहत मिल सके। उन्होंने कहा कि सोमवार को रूक रूककर ओलावृष्टि होती रही। जिस कारण थोड़ी देर के लिए पूरा क्षेत्र सफेद हो गया।

You might also like