कनोह में पानी की टेंशन

पेयजल की सप्लाई ठप होने से नालों का गंदा पानी पीने को मजबूर लोग

दाड़लाघाट -उपमंडल दाड़लाघाट के अंतर्गत ग्राम पंचायत पारनु के कनोह गांव में इन दिनों पानी की किल्लत बढ़ती जा रही है। इस कारण गांववासियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ग्राम सुधार सभा के प्रधान बलिराम शर्मा ने कहा कि विंडबना की बात है कि गांव कनोह के लिए सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग द्वारा पेयजल के नाम पर केवल आश्वासन ही दिया जा रहा है। यह पानी गंभर पेयजल योजना के तहत दिया जाना था। विदित रहे कि इस विषय मे गांव कनोह एवं पंचयात प्रधान पारनु द्वारा सभी ग्रामवासियों के साथ अर्की कार्यालय में जाकर निवेदन किया था। साथ ही दाड़ला संबंधित कार्यालय में भी लिखित रूप में निवेदन किया था लेकिन इस पर भी यह कार्य संपन्न नहीं हुआ। विदित रहे कि विभाग द्वारा कनोह गांव के लिए खाता गांव से गंभर जल योजना के तहत आधा इंच साइज की पाइप जोड़ दी गई, जिसे की आधे रास्ते मंे एक छोटी सी हौदी (टैंक) में डाल दिया। जिसमें पहले ही गांव के निजी सोर्स का पानी डाला हुआ है। इस सोर्स से आगे की लाइन पूरी तरह अव्यस्थित एवं क्षतिग्रस्त है। विभाग द्वारा इस सब की अनदेखी करते हुए पाइप लाइन को मुख्य स्टोर टैंक में न डालकर आधे रास्ते मे डाल दिया। उक्त हौदीनुमा टैंक से नाममात्र पानी भी मुख्य स्टोर टैंक में नहीं पहुंच पा रहा है। यह बात विभागीय कर्मचारियों व अधिकारियों द्वारा मौके पर जाकर स्वीकार भी की गई। लेकिन बड़े ही दुख की बात है कि कई मर्तबा विभाग को पानी की समस्या से अवगत करवाया गया लेकिन विभाग ने तो जैसे कि आंखों पर पट्टी बांध रखी है तभी विभाग को पूर्ण रूप से समस्या की जानकारी होते हुए कोई भी कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा रही है। ग्राम सुधार सभा के प्रधान बलीराम शर्मा, रूपराम, मनसाराम, रवि शंकर हीरालाल, हेमशंकर, बाबूराम, विद्यासागर, लक्ष्मी नारायण आदि ने बताया पिछले दो महीने से इस गांव की पेयजल सप्लाई नहीं हुई है। गांव के 10 परिवारों को इस किल्लत का सामना कर बावडि़यों या नालों से गंदा पानी लाकर गुजारा करना पड़ रहा है। गांववासियों ने सरकार से गुहार लगाई है की गंभरपुल पेयजल योजना वाली पाइप को सीधे मेन टैंक में जोड़ा जाए ताकि गांव वासियों को इस किल्लत से निजात मिल सके। जब इस बारे प्रधान ग्राम पंचायत पारनु विद्यासागर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि गांव कनोह के लिए गंभर जल योजना के तहत लोगों को पानी की सुविधा है, लेकिन गांववासियों को पानी को आए हुए दो महीने का समय हो गया और इस समस्या को लेकर आईपीएच विभाग के अधिकारियों से कई बार बात की गई, लेकिन आईपीएच विभाग द्वारा आश्वासन ही मिले। स्थानीय लोगों की मांग को देखते हुए प्रदेश सरकार व प्रशासन इस बारे जल्द से जल्द इस समस्या से लोगों को निजात दिलाए।

 

You might also like