करेले के औषधीय गुण

करेला खाने में भले ही कड़वा होता है, लेकिन स्वास्थ्य के लिए यह बड़े काम की चीज है। विशेषज्ञों का कहना है कि करेला  कुपोषण और कई बीमारियों से बचाव में बेहद कारगर है।

करेला विटामिन से भरपूर होता है। टाइप 2 डायबिटीज के मरीजों के लिए तो यह विशेष रूप से लाभदायक है। जिनका हाजमा ठीक नहीं रहता, उन्हें करेला नियमित आहार में शामिल करना चाहिए। यह आपके पाचन तंत्र को दुरुस्त बनाता है। करेला कब्ज की समस्या से निजात दिलाता है। मलेरिया से भी बचाता है।

यदि मलेरिया हो जाए तो इसका सेवन लाभकारी है। यह कई बीमारियों से निजात दिला सकता है। करेले में  पोटाशियम, आयरन, बीटा कैरोटिन और कैल्शियम के अलावा विटामिन भरपूर होने के कारण यह कुपोषण से बचाता है।

यह खून में शर्करा की मात्रा यानी ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित रखता है। करेले का सेवन सोरियासिस चर्म रोग में भी फायदेमंद साबित होता है।

मधुमेह- करेला मधुमेह में रामबाण औषधि का काम करता है। करेले के टुकड़ों को छाया में सुखाकर पीसकर महीन पाउडर बना लें। रोजाना सुबह खाली पेट एक चम्मच पाउडर का पानी के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है।

त्वचा रोग- करेले की सब्जी खाने और मिक्सी में पीस कर बना लेप रात में सोते समय लगाने से फोड़े, फंुसी और त्वचा रोग नहीं होते।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए- करेले में मौजूद खनिज और विटामिन शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं, जिससे कैंसर जैसी बीमारी का मुकाबला भी किया जा सकता है।

जोड़ों के दर्द से राहत दे– गठिया या जोड़ों के दर्द में करेले की सब्जी खाने और दर्द वाली जगह पर करेले की पत्तों के रस से मालिश करने से आराम मिलता है।

उल्टी-दस्त में फायदेमंद- करेले के तीन बीज और तीन काली मिर्च को घिसकर पानी मिलाकर पिलाने से उल्टी-दस्त बंद हो जाते हैं। अम्लपित्त के रोगी जिन्हें भोजन से पहले उल्टियां होने की शिकायत रहती है, करेले के पत्तों को सेंक कर सेंधा नमक मिलाकर खाने से फायदा होता है।

मोटापा से राहत दिलाए- करेले का रस और एक नींबू का रस मिलाकर सुबह सेवन करने से शरीर में उत्पन्न टॉकिसंज और अनावश्यक वसा कम होती है और मोटापा दूर होता है।

पीलिया में अचूक- पीलिया और मलेरिया जैसे बुखार में करेले को पीसकर निकाले गए रस को दिन में दो बार पिलाना चाहिए। पीलिया में कच्चा करेला पीसकर खाना फायदेमंद होता है। वैसे तो करेला सेहत की दृष्टि से बेहद लाभकारी है, लेकिन जिन्हें अल्सर की समस्या है उन्हें इससे परहेज करना चाहिए। इसके अधिक सेवन से सीने में जलन जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं।

You might also like