कवर करें छात्रों का लर्निंग गैप

मंडी—प्रारंभिक शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षकों को छात्रों के लर्निंग गैप को कवर करने के लिए विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए गए हैं। इस बाबत मंडी जिला के  बीईईओ व बीआरसीसी (प्राइमरी व अपर प्राइमरी) की बैठक सोमवार को डाइट में आयोजित की गई। बैठक की अध्यक्षता प्रारंभिक शिक्षा उपनिदेशक पीसी राणा ने की। इस दौरान जिला परियोजना अधिकारी एवं डाइट के प्रधानाचार्य बलबीर भारद्वाज विशेष रूप से मौजूद रहे। इस मौके पर उपनिदेशक पीसी राणा ने कहा कि बच्चों की गुणात्मक शिक्षा के साथ-साथ अब लर्निंग गैप दूर करने को विशेष कदम उठाए जाएंगे। उन्हांेने कहा कि कक्षा-कक्ष में कुछ छात्र ऐसे होते हैं, जिनका लर्निंग गैप अन्य छात्रों से कम रहता है इसलिए इस गैप को कवर करने के लिए शिक्षकों को विशेष प्रयास करने की जरूरत है। उन्हांेने कहा कि शिक्षा व्यवस्था में सभी छात्र विशेष होते हैं इसलिए शिक्षकों को अब आधुनिक शिक्षण विधियों को इस्तेमाल कर छात्रों के लर्निंग गैप को सुधारने हेतु कदम उठाने होंगे। पीसी राणा ने कहा कि शिक्षकों को शिक्षण की नई तकनीकों से हर वर्ष प्रशिक्षित करवाया जाता है इसलिए शिक्षकों को सारी तकनीकों को कक्षा-कक्षा में इस्तेमाल कर बच्चों के लर्निंग आउटकम को बेहतर करने की पहल करने होगी। इस मौके पर जिला परियोजना अधिकारी बलबीर भारद्वाज ने भी बीईईओ व बीआरसीसी को दिशा-निर्देश दिए। बैठक में शिक्षा खंड सदर-दो के बीईईओ हेमराज व बीआरसीसी मोहन सिंह सकलानी सहित सभी खंडों के बीईईओ व बीआरसीसी उपस्थित रहे।

टीचर एप के मासिक कोर्स की फीडबैक ली

शिक्षा विभाग द्वारा शिक्षण अधिगम को अधिक रुचिकर व सुगम बनाने के लिए शिक्षकों की मदद के लिए टीचर एप शुरू किया गया है, जिसके मासिक स्तर के कोर्स होते हैं। इस दौरान बीआरसीसी व बीईईओ से टीपर एप के मासिक कोर्स की फीडबैक ली गई कि कितने शिक्षक इस एप का सही ढंग से इस्तेमाल कर रहे हैं।

ट्रेनिंग को स्रोत व्यक्तियों के नाम मांगे

विभाग द्वारा अब जल्द ही शिक्षकों का टे्रनिंग कार्यक्रम शुरू किया जाएगा, जिसके लिए टेनिंग हेतु जिलाभर से खंड वाइज स्रोत व्यक्तियों के नाम मांगे गए हैं, ताकि अतिशीघ्र शिक्षकों की प्रशिक्षण मुहैया करवाया जा सके। इसके लिए बीईईओ व बीआरसीसी को विशेष निर्देश दिए गए हैं।

You might also like