कश्मीर में दो दिनों के बाद कर्फ्यू जैसी पाबंदियां हटाई गयीं

श्रीनगर – जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में अंसार गजवातुल हिंद के सरगना जाकिर मूसा के मारे जाने के बाद हुई हिंसा के मद्देनजर शुक्रवार से श्रीनगर और कश्मीर घाटी के अन्य हिस्सों में लगाई गई कर्फ्यू जैसी पाबंदियां रविवार को हटा ली गयी। शुक्रवार की सुबह तक करीब 12 घंटे तक चली सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मूसा के मारे जाने के बाद हुए विरोध प्रदर्शनों तथा झड़पों के बाद श्रीनगर तथा दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में एहतियात के तौर पर कर्फ्यू जैसी पाबंदियां लगाई गई थीं। इसबीच घाटी के अधिकांश हिस्सों में कम स्पीड वाली मोबाइल इंटरनेट सेवाओं को फिर से बहाल कर दिया गया है। सुरक्षा कारणों से उच्च स्पीड वाली इंटनेट सेवाओं पर रोक जारी रहेगी। घाटी में पिछले दो दिनों से स्थगित रेल सेवा को भी रविवार को फिर से बहाल कर दिया गया। पुलिस अधिकारी ने कहा कि घाटी में किसी भी स्थान पर किसी प्रकार की पाबंदी लागू नहीं है लेकिन कानून और व्यवस्था को बनाये रखने के लिए संवेदनशील स्थानों पर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात रखा गया है। 
पिछले दो दिनों से बंद ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के सभी द्वारों को खोल दिया गया है। जामिया बाजार तथा इसके आस-पास के इलाकों में किसी प्रकार के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में तैनात सुरक्षा बलों तथा राज्य पुलिस के जवानों को भी वापस बुला लिया गया है। पवित्र रमजान माह के दौरान इस ऐतिहासिक मस्जिद में पिछले दो सप्ताह के दौरान जुमे की नमाज नहीं अदा की जा सकी है। मुख्य नल्लामार मार्ग पर कंटीली तारों समेत सभी प्रकार के सड़क अवरोधों काे हटा लिया गया है। अब इस मार्ग पर सामान्य रूप से यातायात जारी है तथा दुकानें एवं अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठानें खुली हुयी हैं। शहर-ए-खास और पुराने इलाका समेत अन्य इलाकों से पाबंदियां हटाने के बाद जनजीवन सामान्य हो चुका है। इस बीच, दक्षिण कश्मीर के त्राल, अनंतनाग तथा कुछ अन्य शहरों और तहसील मुख्यालयों में पिछले दो दिनों से लगाए गए प्रतिबंधों को भी वापस ले लिया गया है। इन क्षेत्रों में सड़कों से सभी बाधाओं को हटा दिया गया है। हालांकि कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए संवेदनशील क्षेत्रों में सुरक्षा बल तैनात हैं।स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि कई युवाओं को सुरक्षा बलों ने दक्षिण कश्मीर में विशेष रूप से अनंतनाग में अलग-अलग छापेमारी के दौरान गिरफ्तार किया है।गौरतलब है कि दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल में सुरक्षा बलों के साथ 12 घंटे तक चली मुठभेड़ में मूसा मारा गया था। इसके बाद श्रीनगर, पुलवामा, शोपियां, अनंतनाग और अवंतीपोरा सहित कई इलाकों में विरोध प्रदर्शन और झड़पें शुरू हो गयी थीं। इसके बाद अधिकारियों ने श्रीनगर में कर्फ्यू लागू कर दिया था तथा दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में कर्फ्यू जैसी पाबंदियां लगाई गयी थीं। मूसा के मारे जाने के खिलाफ हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टपंथी धड़ के प्रमुख सैयद अली शाह गिलानी द्वारा आहूत हड़ताल के मद्देनजर शनिवार को कर्फ्यू और प्रतिबंध जारी रखा गया था।

You might also like