कांगड़ा-पालमपुर की सेहत बिगाड़ चंबा का इलाज

एमसीआई के सामने बेहतर व्यवस्थाएं दिखाने को नए मेडिकल कालेज में डेपुटेशन पर भेजे 16 डाक्टर

कांगड़ा -हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला में शुरू किए गए पंडित जवाहर लाल नेहरू गवर्नमेंट मेडिकल कालेज की मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) की टीम के सामने साख बचाने को पड़ोसी जिला कांगड़ा की जनता की सेहत को ही रामभरोसे कर दिया है। कांगड़ा जिला में स्थित डा. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल टांडा से कई चिकित्सकों को चंबा मेडिकल कालेज में डेपुटेशन पर भेजने के बाद जिला के पांच अस्पतालों से आठ विभिन्न विशेषज्ञों को बतौर सीनियर रेजिडेंट तथा जिला भर की विभिन्न पीएचसी में तैनात चिकित्सकों को बतौर जूनियर रेजिडेंट के तौर पर डेप्यूट किया गया है। जिला कांगड़ा के विभिन्न अस्पतालों तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केेंद्रों से 16 चिकित्सकों के चंबा में डेपुटेशन पर भेजने के चलते जिला कांगड़ा की स्वास्थ्य सुविधाआें पर भी इसका असर पड़ेगा। जानकारी के अनुसार प्रदेश में नए खुले मेडिकल कालेजों को लेकर एमसीआई ने इनकी व्यवस्थाआें को लेकर सवाल उठाए थे। ऐसे में एमसीआई द्वारा चंबा मेडिकल कालेज में उचित व्यवस्थाएं न होने पर इसको बंद करने को लेकर भी बात कही थी। इससे चंबा मेडिकल कालेज पर भी एमसीआई की कार्रवाई को लेकर तलवार लटक गई थी। अब जिला कांगड़ा से चंबा मेडिकल कालेज में चिकित्सकों की तैनाती कर एमसीआई के सामने व्यवस्थाआें को बेहतर दर्शाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं। विभाग की तरफ से जारी अधिसूचना के तहत जिला कांगड़ा के जोनल अस्पताल धर्मशाला से स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. पंकज तथा मनोरोग विशेषज्ञ डा. अनिता ठाकुर, सिविल अस्पताल पालमपुर से जनरल मेडिसिन के डा. प्रेम भारद्वाज, जनरल सर्जरी के डा. अमित शुक्ला, सिविल अस्पताल देहरा से जनरल सर्जरी के डा. संजीव चौहान, हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. सुरजीत सिंह, सिविल अस्पताल नूरपुर से रेडियोलॉजी विभाग के डा. नीरज कुमार तथा सीएच थुरल से प्लमनरी मेडिसिन के डा. संजय कुमार को बतौर सीनियर रेजिडेंट चंबा मेडिकल कालेज में तैनात किया गया है। इसके अलावा जिला की पीएचसी सदवां से डा. साहिल, टिक्का नगरोटा से डा. मुनीष शर्मा, जसूर से डा. वरिंद्र गुप्ता, कोटला से डा. अभि शर्मा, धरूं से डा. दुष्यंत कुमार, सियूंह से डा. हरिंद्र पाल सिंह, लपियाणा से डा. सुभाष ठाकुर तथा पीएचसी चड़ी से डा. दिशा ठाकुर को बतौर जूनियर रेजिडेंट के तौर पर चंबा मेडिकल में तैनात किया गया है।

अस्पतालों में पहले स्टाफ कम

पहले ही चिकित्सकों की कमी से जूझ रहे कांगड़ा के विभिन्न चिकित्सा संस्थानों से डाक्टर को चंबा भेजे जाने के चलते स्वास्थ्य सेवाएं भी प्रभावित होंगी। चंबा मेडिकल कालेज भेजे गए ये चिकित्सक एमसीआई की टीम के दौरे के चलते वहां पर अपनी ड्यूटी देंगे।

 

 

You might also like