कांग्रेस ने जड़े चुनाव आयोग पर आरोप

चंडीगढ़ -हरियाणा प्रदेश कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की बी-टीम के रूप में काम करने तथा पक्षपात करने का आरोप लगाया है। पार्टी के प्रदेश कोषाध्क्ष तरूण भंडारी ने जारी एक बयान में चुनाव आयोग पर पूर्णतया पक्षपातपू्रर्ण रवैया अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि जब भी कोई विपक्षी दल आदर्श आचार संहिता के संदर्भ में अपनी कोई जायज मांग या शिकायत करता है, तो आयोग उस पर कोई कार्रवाई करने के बजाए झूठी शिकायतों को आधार बना कर संबंधित अधिकारियों के तबादले कर उन्हें प्रताडि़त करने का काम कर रहा है। उन्होंने दावा किया कि आयोग ने एक फर्जी शिकायत के आधार पर रेवाड़ी रेंज के पुलिस महानिरीक्षक श्रीकांत जाधव का तबादला करने की सिफारिश राज्य के पुलिस महानिदेशक को भेज दी। जब उन्होंने इसकी तहकीकात की तो पता चला की किसी ने फर्जी हस्ताक्षरों से आयोग के पास श्री जाधव के खिलाफ शिकायत की है। ऐसी फर्जी शिकायतों पर तुरंत कार्रवाई करना और जायज शिकायतों को ठंडे बस्ते में डाल देने से चुनाव आयोग की कार्यप्रणाली पर प्रश्रचिंह लगना स्वाभाविक है। उन्होंने मांग की कि फर्जी हस्ताक्षर करने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने और दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त  कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी और मुख्य चुनाव आयुक्त को राज्य की  भाजपा सरकार में सरकारी पदों पर बैठे लोगों द्वारा चुनाव आचार संहित का उल्लंघन करने की शिकायत दर्ज कराई थी, जिस पर आज तक कार्रवाई नहीं की गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य के मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव दीपक मंगला, मीडिया सलाहकार राजीव जैन और राज्य के मंत्रिमंडल सदस्यों के साथ लगाए गए मीडिया सलाहकार खुलेआम चुनावी सभाओं और भाजपा के राजनीतिक कार्यक्रमों में भागीदारी कर रहे हैं। राज्य सरकार के विभिन्न निगमों और बोर्डों के चेयरमैन भी चुनावी सभाओं के लिए खुलेआम सरकारी गाड़ी और स्टाफ का इस्तेमाल कर रहे हैं, जो कि चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों के कार्यकाल में सरकारी पदों पर आसीन लोग इस्तीफा देकर चुनाव में भागीदारी करते थे, लेकिन वर्तमान भाजपा सरकार में सरकारी पदों पर बैठे लोगों का रवैया पूरी तरह असंवैधानिक है।

You might also like