कांग्रेस ने नहीं मांगी रैली की इजाजत

वीरभद्र सिंह के आरोप डीसी सिरमौर ने किए खारिज

शिमला —नाहन में चौगान को चुनाव रैली के लिए नहीं दिए जाने के कांग्रेस के आरोपों को  जिलाधीश एवं जिला निर्वाचन अधिकारी नाहन ने खारिज कर दिया गया है। उन्होंने इस संबंध में अपनी रिपोर्ट मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेजी है, जिसमें साफ कहा गया है कि कांगे्रस की ओर से रैली स्थल के लिए चौगान को आवेदन नहीं किया गया है। उन्होंने यह भी बताया है कि चौगान में रैली के लिए केवल भाजपा ने आवेदन किया था, जिनको वह स्थान दिया गया है। भाजपा की यहां पर 12 मई को रैली हुई, जिसमें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह आए थे। बता दें कि नाहन में जाकर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह ने कहा था कि जिलाधीश ने भाजपा के लिए चौगान को रिजर्व रखा है।  मुख्य चुनाव अधिकारी को भेजी गई रिपोर्ट के अनुसार जिला चुनाव अधिकारी ने कहा है कि भाजपा की ओर से मंडल प्रधान दीन दयाल वर्मा ने आवेदन किया था, जिनके अलावा किसी भी दूसरे दल का कोई आवेदन उनके पास नहीं आया है। जब आवेदन ही नहीं आया है तो किसी को कैसे अनुमति दी जा सकती है। उन्होंने कहा है कि एक समान रूप से सभी राजनीतिक दलों को उनके आवेदनों पर अनुमति दी जाती है, जिसमें किसी भी तरह का भेदभाव नहीं किया जाता। इसलिए इस मामले में लगाए गए आरोप पूरी तरह से तथ्यहीन हैं।  उन्होंने बताया कि इस संबंध में नगर परिषद नाहन से भी रिपोर्ट ली गई है, वहीं एसडीएम नाहन की भी रिपोर्ट आई है। दोनों ही रिपोर्ट में कहा गया है भाजपा के अलावा किसी भी दूसरे दल ने आवेदन नहीं किया था। इतना ही नहीं भाजपा ने समय पर आवेदन किया था और इसके लिए जरूरी फीस भी भरी थी। यह मुद्दा कांगे्रस के वरिष्ठ नेता द्वारा उठाए जाने के बाद इस पर चुनाव विभाग ने रिपोर्ट मांगी थी, जिसमें सब साफ हो गया है। ऐसे में कांगे्रस द्वारा लगाए गए आरोप बेबुनियाद बताए गए हैं जिससे कांगे्रस के नेताओं की भी फजीहत हुई है।

You might also like