कुनेड़ में किसानों को बांटा मटर का बीज

कृषि वैज्ञानिकों ने दिए खेती के टिप्स; किसानों की समस्याओं से हुए रू-ब-रू, बीमारी से निपटने के दिए टिप्स

भरमौर -विधानसभा क्षेत्र भरमौर के तहत आने वाली गैर जनजातीय क्षेत्र की पंचायत कुनेड़ में पहली मर्तबा कृषि वैज्ञानिक पहंुचे और किसानों-बागवानों की समस्याओं से रू-ब-रू हुए। इस दौरान  कृषि वैज्ञानिकों ने किसानों की समस्याओं को जाना और इनके निदान हेतु टिप्स भी प्रदान किए। साथ ही कृषि क्षेत्र में आई नई तकनीकों के बारे में भी किसानों को जानकारी दी गई। लिहाजा ग्रामीण भी खुद को सौभाग्यशाली मानते है कि कृषि क्षेत्र से जुड़े बड़े अधिकारी उनके गांव तक पहंुचे और उनकी समस्याओं से रू-ब-रू हुए। मौका था कृषि विज्ञान केंद्र सरू की ओर चले प्री रबी कंपेन के तहत आयोजित शिविर का। शिविर में कृषि विज्ञान केंद्र सरू के  डा. केहर सिंह ठाकुर और डा. अनुराग शर्मा ने मुख्य रूप से अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई।  इस दौरान शिविर में केंद्र की ओर से किसानों को मटर का बीज निःशुल्क वितरित किया गया। साथ ही फल-सब्जी उत्पादन से जुडी पठन सामग्री भी वितरित की। केंद्र के वैज्ञानिक डा. केहर सिंह ठाकुर ने बताया कि उनका लक्ष्य अति दुर्गम गांवों तक पहंुच किसानों की समस्याओं को जानना है और नई तकनीकों से अवगत करवाना है। बातचीत के दौरान किसानों ने बताया कि यहां पर राजमाह, मटर समेत अन्य नकदी फसलों व सब्जियों की पैदावार होती है। लेकिन गांव तक सडक सुविधा न होने के चलते उन्हें अपने उत्पादों को बिक्री हेतु व्यापारिक मंच न होने की कमी भी खलती रही है। इस दौरान किसानों ने बताया कि राजमाह में बीमारी लगने के चलते किसानों को यहां भारी नुकसान उठाना पड़ता है। नतीजतन पुराना बीज भी उनके पास अब मौजूद नहीं रहा है।  लिहाजा केंद्र ने किसानों की डिमांड पर उन्हें राजमाह का बीज मुहैया करवाने का भरोसा दिलाया है। उधर, शिविर के दौरान नकदी फसलों के बारे में जानकारी दी गई। साथ ही सब्जी उत्पादन, कीट प्रबंधन, औषधीय पौधों और जैव विविधता विषय पर विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की।

You might also like