कृषि विश्वविद्यालय में स्टार्ट-अप प्रोजेक्ट

पालमपुर – भारत सरकार ने राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (आरकेवीवाई) के तहत एक राष्ट्रीय स्टार्टअप परियोजना शुरू की है। इसमें कृषि विविद्यालय सहित 24 संस्थान शामिल हैं। कृषि विवि में एग्री-बिजनेस इनक्यूबेटर की स्थापना के लिए 2.33 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। इसमें 30 लोगों को दो माह का निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। गौर रहे कि हाल ही में विश्वविद्यालय ने छात्रों और ग्रामीण युवाओं के बीच स्टार्टअप संस्कृति को विकसित करने के लिए हिम पालम राष्ट्रीय कृषि विकास योजना-व्यवसाय इनक्यूबेटर (हिम पालम आर-एबीआई) की स्थापना की है। प्रशिक्षित युवा एक नई कंपनी शुरू कर सकते हैं। कोई भी व्यक्ति जो नई कंपनी (स्टार्टअप) खोलना चाहता है, वह चार जून तक विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध निर्धारित प्रारूप में आवेदन कर सकता है। प्रत्येक प्रशिक्षु को 30 लाख रुपए तक अनुदान का प्रावधान है। इस केंद्रीय स्टार्टअप योजना के तहत, हिम पालमआर-एबीआई 30 कृषि-उद्यमियों के एक बैच का चयन करेगा। इसके अलावा, हिमाचल प्रदेश सरकार के उद्योग निदेशालय ने भी ‘मुख्यमंत्री के स्टार्टअप, इन्नोवेटिव प्रोजेक्ट, न्यू इंडस्ट्रीज स्कीम’ के तहत विश्वविद्यालय को एग्री-बिजनेस इन्क्यूबेटर वित्त पोषित किया है, जिसमें पात्र उम्मीदवारों को अपने विचारों को एक सफल उद्यम में बदलने के लिए एक वर्ष के लिए प्रति माह 25 हजार रुपए का भत्ता, मुफ्त तकनीकी सहायता और कई अन्य प्रोत्साहन प्रदान किए जाएंगे। इच्छुक छात्र और ग्रामीण युवा ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अशोक कुमार सरयाल ने कहा कि कृषि क्षेत्र में नवाचार और उद्यमिता विकास को बढ़ावा देना ग्रामीण आजीविका और भारतीय अर्थव्यवस्था को बनाए रखने के लिए समय की जरूरत बन गया है।

You might also like