केंद्र से मांगे 200 करोड़

एनएच-154ए पर होगा काम, 133 किलोमीटर में बर्फबारी-बारिश से हुआ था भारी नुकसान

शिमला – अतिरिक्त मुख्य सचिव (लोक निर्माण व राजस्व) मनीषा नंदा ने कहा कि गत वर्ष लंबे समय तक जारी रहे मानसून तथा शीत ऋतु में भारी बर्फबारी एवं वर्षा के कारण राष्ट्रीय उच्च मार्ग-154ए (बनीखेत-चम्बा-भरमौर सड़क) के संपूर्ण 133 किलोमीटर को भारी क्षति पहुंची। भारी वर्षा एवं बर्फबारी से बड़े भू-स्खलन हुए तथा संभावित भू-स्खलन क्षेत्रों में भी अधिक नमी के कारण भू-स्खलन हुए। उन्होंने इस मामले को भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं उच्च मार्ग के सचिव के समक्ष उठाया, ताकि विशेषज्ञों का एक दल राष्ट्रीय उच्च मार्ग की अलाइनमेंट पर उभरते खतरे को कम करने के लिए लघु एवं दीर्घ कालिक कदम सुझा सकें। इसके उपरांत मंत्रालय ने चार सदस्यीय विशेषज्ञ दल गठित किया तथा नौ सप्ताह के भीतर आपदा जोखिम के दोबारा सामने आने को रोकने के लिए सुझाव सहित रिपोर्ट दर्ज करवाने को कहा। उन्होंने कहा कि यह विशेषज्ञ दल नौ तथा 10 जून को राष्ट्रीय उच्च मार्ग का दौरा करेगा। प्रदेश सरकार इस दल के सुझावों के आधार पर भारत सरकार को निधि के लिए विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार की जाएगी। हालांकि प्रदेश के लोक निर्माण विभाग ने पहले ही वर्ष 2019-20 की मंत्रालय की वार्षिक योजना में शामिल करने के लिए 200 करोड़ रुपए का संभावित बजट प्रस्तावित किया है, जिससे एनएच-154ए की विशेष मरम्मत की जाएगी।

ये विशेषज्ञ तैयार करेंगे रिपोर्ट

अतिरिक्त मुख्य सचिव मनीषा नंदा ने कहा कि इस दल में आईआईटी रूड़की के नामी विजटिंग प्रोफेसर एवं एनडीएमए (आपदा राहत विशेषज्ञ) में एनएसी के सदस्य डा. आरके भंडारी, हिमाचल प्रदेश रिमोट सेंसिंग सेंटर शिमला (जियोलॉजिकल विशेषज्ञ) के प्रधान वैज्ञानिक अधिकारी डा. राजेंद्र थापा, केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान दिल्ली (इंजीनियरिंग जियोलॉजिस्ट) के मुख्य वैज्ञानिक डा. किशोर कुमार तथा पंजाब के रोपड़ स्थित आईआईटी के सिविल इंजीनियरिंग विभाग के सहायक प्रोफेसर डा. नवीन जेम्स शामिल हैं।

You might also like