कौन होगा अगला  सांसद, फैसले की घड़ी

शिमला—शिमला संसदीय क्षेत्र का 20वां सांसद कौन होगा, इसका फैसला कल यानी 23 मई को होगा। कांग्रेस और भाजपा में से कोई एक नेता ही जीत कर शिमला संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करेगा। गत 19 मई को हुए मतदान के बाद कांग्रेस और भाजपा सहित 17 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हुआ, जो गुरुवार को खुलेगा। उस दिन यह तय होगा कि शिमला संसदीय क्षेत्र से हमारा सांसद कौन होगा? हालांकि इस बार यह चुनाव 17वीं लोकसभा के लिए हो रहे हैं, लेकिन शिमला संसदीय सीट पर 20वां चुनाव हो रहे हैं। कारण यह है कि बीच में यहां उप चुनाव की नौबत भी आई थी। अब तक शिमला संसदीय क्षेत्र में जिला सोलन के नेता को ही अधिक बार संसद जाने का मौका मिला था। शिमला संसदीय क्षेत्र में वर्तमान राजनीतिक परिस्थिति पर गौर करें तो कांग्रेस और भाजपा बराबरी पर हैं। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के पास आठ-आठ सीटें और एक सीट माकपा के पास है। यानी शिमला, सोलन और सिरमौर जिले के 17 विधानसभा क्षेत्रों में वर्तमान में यह हालात है। हालांकि भाजपा ने इस बार जिला सिरमौर के नेता पर दांव खेल दिया है। यहां के पच्छाद विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक सुरेश कश्यप प्रत्याशी हैं। वह इससे पहले लगातार दो बार विधानसभा का चुनाव जीत कर आए हैं। विधानसभा चुनाव में जिला सिरमौर के पांच विधानसभा क्षेत्रों में से तीन भाजपा और दो सीटें कांग्रेस के पास हैं। इसी तरह से जिला सोलन की पांच विधानसभा सीटों में से कांग्रेस के पास तीन और भाजपा के पास दो सीटें हैं। इसी तरह से शिमला जिला में तीन सीटें भाजपा, तीन ही सीटें कांग्रेस के पास हैं, जबकि एक सीट माकपा की झोली में है। पुराने रिकार्ड पर गौर करें तो शिमला संसदीय क्षेत्र में कांग्रेस और भाजपा बराबरी पर हैं।

शिमला सीट पर कब कौन रहे सांसद

वर्ष                               सांसद                 दल

1952                              टेकचंद                कांग्रेस

1957                              एसएन रमौल                        कांग्रेस

1957                              वाईएस परमार                       कांग्रेस

1957                              नेकराम नेगी                         कांग्रेस

1962                              वीरभद्र सिंह                         कांग्रेस

1967                              वीरभद्र सिंह                         कांग्रेस

1967                              प्रताप सिंह             कांग्रेस

1971                              प्रताप सिंह             कांग्रेस

1977                              बालकराम             लोकदल

1980                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1984                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1989                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1991                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1996                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1998                              केडी सुल्तानपुरी      कांग्रेस

1999                              धनीराम शांडिल       हिविकां

2004                              धनीराम शांडिल       कांग्रेस

2009                              वीरेंद्र कश्यप                        भाजपा

2014                              वीरेंद्र कश्यप                        भाजपा

2019                                  ??                 ??

You might also like