खट्टर सरकार से अध्यापक नाराज

पंचकूला -हरियाणा सरकार के कर्मचारियों को हरियाणा सरकार कोई अहमियत नहीं दे रही है। हरियाणा राज्य अध्यापक संघ 70 संबंधित कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय प्रधान प्रदीप सरीन व प्रांतीय चेयरमैन कुलभूषण शर्मा ने प्रेस द्वारा जारी बयान में कहा कि वर्तमान हरियाणा सरकार ने सत्ता में आते ही रिटायरमेंट की आयु 60 वर्ष से घटाकर 58 वर्ष कर दी। एक जनवरी 2016 से मकान किराया भत्ता जो 10 प्रतिशत देय बनता है, वह भी नहीं दिया है। अभी तक डीए भी नहीं बढ़ाया है। कैशलेस मेडिकल पोलिसी की भी सिर्फ घोषणा की है, अभी तक लागू नहीं किया है। वर्षों से कार्यरत गेस्ट टीचर्स को सेवा सुरक्षा गारंटी प्रदान की है, परंतु उनका वेतन अभी तक पूरा नहीं किया है। विभागों का काम भी सही प्रकार से नहीं चल रहा है, जूनियर की प्रमोशन कर दी गई है, जबकि वरिष्ठ कर्मचारियों के पदोन्नति के मामले तीन तीन वर्षों से लटके पड़े हैं। अध्यापक संघ के वरिष्ठ उपप्रधान दिलबाग सिंह अहलावत व प्रांतीय प्रवक्ता रविंदर राणा ने कहा है कि सरकार कर्मचारियों की मांगों को पूरा करें अन्यथा कर्मचारी भी इन चुनावों में अपनी नाराजगी जाहिर करने के लिए तैयार बैठे हैं। जो अपने चुनावी घोषणा पत्र में कर्मचारियों की इन मांगों को पूरा करने का आश्वासन देगा, कर्मचारी भी उसी के बारे में सोचेंगे। अध्यापक संघ के वरिष्ठ उप प्रधान साहब सिंह चौहान व जिला प्रधान गुरमीत सिंह ने कहा कि सरकार कर्मचारियों को हलके में न लें। सरकार कर्मचारी नेताओं से तुरंत बातचीत करें।

 

 

You might also like