खाना खाने में असमर्थ मरीज को नया जीवन

कांगड़ा -पिछले एक माह से खाने में असमर्थ कंेसर के रोगी को डा. राजंेद्र प्रसाद मेडिकल कालेज एवं अस्पताल टांडा मंे नया जीवनदान प्रदान किया गया है। टीएमसी में कांगड़ा  जिला से ही संबंध रखने वाले इस रोगी की एसोफैगस (भोजन की नली) में कंेसर होने के चलते इस प्रकार की समस्या से जूझना पड़ रहा था। इस रोगी का उपचार करते हुए पहला एंडोस्कोपिक स्टंेट प्लेसमंेट टांडा अस्पताल में सफलतापूर्वक किया गया। टीएमसी पिं्रसीपल डा. भानू अवस्थी ने रोगी को राहत प्रदान करने वाली टांडा के चिकित्सकांे की टीम को बधाई दी है। टांडा मेडिकल कालेज के पिं्रसीपल डा. भानू अवस्थी ने बताया कि टीएमसी में कांगड़ा जिला से ही सबंध रखने वाला मरीज उपचार के लिए पहुंचा था। मरीज की भोजन खाने की नली में केंसर होने के चलते उससे कुछ भी खाया-पिया नहीं जा रहा था। पिछले एक माह से रोगी ने इस बीमारी के चलते पिछले एक माह से खाना खाने में असमर्थ हो चुका था। रोग के चलते मरीज द्वारा कुछ एडवांस मेडिकल संेटर में भी अपना उपचार करवाया था, लेकिन इस दौरान रोग को कोई भी राहत नहीं मिली थी। इसके बाद मरीज को टीएमसी लाया गया था। मरीज में बीमारी का पता लगाने के बाद उसके उपचार को शुरू किया गया था। मरीज का नौ मई को टांडा अस्पताल में एंडोस्कोपी टीम द्वारा अस्पताल में पहला भोजन की नली में एंडोस्कोपिक स्टेंट प्लेसमेंट सफलतापूर्व की। मरीज को टीएमसी के गेस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट डा. स्वतंत्र गुप्ता, मेडिसन विभाग के प्रो. डा. राजेश शर्मा, सिस्टर इंदू और तकनीशियन संजीव सहित अजय, सहिल और श्याम की टीम ने मरीज का सफल एंडोस्कोपिक स्टंेट प्लेसमंेट कर राहत प्रदान की। मरीज की जिंदगी से जुड़ी बीमारियांे में राहत प्रदान करने के लिए इस तरह की प्राथमिक उपचार की प्रक्रियाएं उपलब्ध करवानी हैं। डा. अवस्थी ने कहा कि मरीज को बेहतर उपचार प्रदान करने पर मरीज के पुत्र ने टांडा अस्पताल प्रशासन का धन्यवाद किया है।

 

You might also like