गर्मी… घर से निकलना हुआ मुश्किल

ऊना—ऊना जिला में सूर्यदेव ने अपना रौद्र रूप दिखाना शुरू कर दिया है। वहीं, दोपहर में चल रही गर्म हवाओं ने लोगों का घर से निकलना मुश्किल कर दिया है। सबसे ज्यादा दिक्कत स्कूली छात्र-छात्राओं को रही है, जो  तेज धूप में गर्म हवाओं को झेलते हुए स्कूल से घर पहंुच रहे हैं। मंगलवार को प्रचंड धूप के बीच चली गर्म हवाओं के थपेड़ों ने खूब कहर बरपाया, जिससे जिला का अधिकतम तापमान बढ़कर 41 डिग्री सेल्सियस पहंुच गया। बारिश के चलते जिलावासियों ने कुछ राहत की सांस ली थी, लेकिन मंगलवार से सूर्यदेव ने फिर से आग उगलना शुरू कर दिया है। इससे आमजनमानस भी खासा प्रभावित हुआ है। सुबह आठ बजे के बाद से ही गर्मी का प्रकोप बढ़ना शुरू हो जाता है। तेज होती धूप में विद्यार्थी स्कूल पहंुचते हैं और दोपहर को जब तीन बजे छुट्टी होती है तब कड़कती धूप में घर पहंुचते हैं। तेज धूप में छात्रों के अभिभावकों को नौनिहालों के बीमार होने की चिंता सताने लगी है। कुछ अभिभावक तो सरकारी स्कूलों में अपने बच्चों को लेने स्वयं पहंुच रहे हैं। कई छात्रों को तो तीन से चार किलोमीटर का सफर पैदल करना पड़ता है। बढ़ती धूप के चलते कई स्कूलों में प्रार्थना सभा भी विद्यार्थियों से बैठकर करवाई जाती है, ताकि कोई विद्यार्थी चक्कर खाकर न गिर जाए। लोग गर्मी से बचने के लिए शीत पेयजल व पदार्थों का सहारा ले रहे हैं। कड़कती धूप से बचने  के लिए लोग घरों में ही दुबके रहे और किसी जरूरी काम के लिए ही घर से बाहर निकले। मंगलवार को जिला के अधिकतम में तीन डिग्री तक का उछाल आया है और ऊना का तापमान 41 डिग्री तक पहुंच गया। जबकि न्यूनतम तापमान में दो डिग्री की गिरावट दर्ज हुई है। जिला मौसम अधिकारी विनोद कुमार ने बताया कि जिला का अधिकतम तापमान 41.0 व न्यूनतम तापमान 18.3 डिग्री दर्ज किया गया। जबकि सोमवार को जिला का अधिकत्तम तापमान 38.8 डिग्री रहा था।

क्या कहते स्किन स्पेशलिस्ट डा. हरसिमरत सिंह, शरीर को रखें ढक कर

स्किन स्पेशलिस्ट डा. हरसिमरत सिंह ने बताया कि तेज धूप त्वचा के लिए हानिकारक हो सकती है। इसलिए धूप में निकलते समय हमेशा अपना चेहरा व शरीर के अंग ढक कर रखें।

सूर्य की रोशानी से बचाएं आंखों को

क्षेत्रीय अस्पताल ऊना में तैनात नेत्र रोग विशेषज्ञ डा. आशीष साहनी ने बताया कि धूप में आंखों की विशेष देखभाल करें। सीधे सूर्य की रोशनी में न आएं। धूप में निकलते समय गोगल्स लगाएं। अगर धूप में काम कर रहे हैं तो हर एक घंटे बाद ठंडे पानी के छींटे मारें।

You might also like