गुलाबा बैरियर पर धांधली

ऑनलाइन परमिट आसानी से न मिलने पर ड्राइवर बदल रहे गाडि़यों की नंबर प्लेट

मनाली—समर सीजन के शुरुआती दिनों में ही बर्फ  के दीदार को मनाली में हाहाकार मचने लगा है। बर्फ  की चांदी अभी से ही देश-विदेश से मनाली आ रहे पर्यटकों की पहुंच से दूर होने लगी है। गुलाबा बैरियर इस बार फिर चर्चा में है। सीमित वाहनों की संख्या को इसका मुख्य कारण बताया जा रहा है। मनाली में ही तीन हजार से अधिक टैक्सियां हैं। बाहरी राज्य से भी हर रोज हजारों पर्यटक वाहन मनाली दस्तक दे रहे हैं।  प्रतिदिन 1200 पर्यटक वाहनों को ही ऑनलाइन रोहतांग परमिट जारी किए जा रहे हैं। ऐसे में परमिट के लिए मनाली ही नहीं देश भर में हाहाकार मचा हुआ है। जहां इंटरनेट व्यवस्था सुदृढ़ है वहां आसानी से परमिट मिल रहा है। मनाली में परमिट के लिए मारामारी वाला माहौल बन चुका है। वाहन चालक देश के बड़े शहरों में बैठे साइबर कैफे वालों की मदद ले रहे हंै। हालांकि प्रशासन सतर्क है, लेकिन सैलानियों की भीड़ के आगे विवश दिख रहा है। एक तरफ  ट्रैफिक जाम प्रशासन के लिए सरदर्द बना हुआ है, वहीं दूसरी और गुलाबा बैरियर की धांधली ने मनाली प्रशासन की नींद उड़ा दी है। ऑन लाइन परमिट आसानी से न निकलता देख वाहन चालक नए-नए तरीके अपना रहे हंै। कई नंबर प्लेट बदलकर तो कई प्रशासन की आंख में धूल झोंककर मढ़ी जा रहे हंै। प्रशासन ने अब तक कई वाहन चालकों पर कड़ी करवाई भी की है, लेकिन गुलाबा बैरियर में धांधली रूकने का नाम नहीं ले रही है। एसडीएम मनाली अश्वनी कुमार ने कहा कि एनजीटी के आदेशों का सख्ती से पालन किया जा रहा है। प्रतिदिन 1200 पर्यटक वाहन ही मढ़ी भेजे जा रहे हैं। समय-समय पर छापामारी की जा रही है।

You might also like