गेहूं की फसल की उड़ी गिल्लियां

शिमला —शिमला में गुरुवार को फिर से तूफान व बारिश रिकॉर्ड की गई है। शहर के साथ जिला शिमला के ऊपरी क्षेत्रों में कई स्थानों पर बारिश आंकी गई है, जिससे अधिकतम व न्यूनतम तापमान में फिर से गिरावट आई है। जिला शिमला में शुक्रवार को भी मौसम खराब बना रहेगा। मौसम विभाग ने जिला शिमला के कुछ स्थानों पर बारिश, तूफान व ओलावृष्टि होने की चेतावनी जारी की है। जिंला शिमला में 22 मई तक  मौसम खराब बना रहेगा। इस दौरान जिला के कुछ स्थानों पर गर्जन के साथ बारिश होगी। शिमला में गुरुवार अल सुबह ही तेज हवा के साथ बारिश का सिलसिला शुरू हो गया था, जो करीब नौ बजे तक जारी रहा। शिमला के साथ-साथ जिला के ऊपरी क्षेत्रों में भी कई स्थानों पर बारिश रिकॉर्ड की गई है। शिमला में बारिश से अधिकतम व न्यूनतम तापमान में भी गिरावट आई है। शिमला का न्यूनतम तापमान लुढ़ककर 10 डिग्री सेल्सियस तक पहंुच गया है। शिमला के न्यूनतम तापमान में तीन डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट आई हैै। इसके अलावा शिमला के अधिकतम तापमान में भी गिरावट आंकी गई है। तापमान में गिरावट आने से शिमला में फि र से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के तहत यदि आगामी दिनों के दौरान भी बारिश होती है तो तापमान में और गिरावट आ सकती है।

गेहूं व जौ की फसल को नुकसान

जिला शिमला में गुरुवार सुबह के समय बारिश व तूफान से कुछ स्थानों पर गेहूं व जौ की फसल को नुकसान पहुंचा है। जिला शिमला के कई स्थानों पर किसानों ने खेतों में गेहूं व जौ की कटाई की है। गुरुवार अल सुबह के समय हुई बारिश से खेतों मेंं कटी फसल को नुकसान पहुंचा है।

बारिश से खिले बागबानों के चेहरे

जिला शिमला में हो रही हल्की बारिश से बागबानों के चेहरांे पर रौनक है, मगर बागबानों को खतरा सता रहा है कि यदि फिर से तूफान व ओलावृष्टि होती है तो यह सेब सहित स्टोन फ्रूट केे लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

शिमला में तूफान की चेतावनी

जिला शिमला में 40 से 50 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से तूफान चलेगा। मौसम विभाग ने जिला के कुछ स्थानों पर तूफान चलने की चेतावनी जारी की है। इस दौरान कुछ क्षेत्रों में तूफान कहर भी बरपा सकता है। खासतौर पर जिला शिमला के ऊपरी क्षेत्रों में तूफान नुकसान पहुंचा सकता है।

You might also like