गोद लिए गांव में रामस्वरूप शर्मा को लीड

कुल्लू—देश-दुनिया में विख्यात पर्यटन नगरी मनाली के मनाली गांव को सांसद रामस्वरूप शर्मा ने वर्ष 2014 में हुए लोकसभा में चुनाव में सांसद बनने के बाद गोद लिया था, लेकिन पांच वर्षों में यहां विकास नहीं हुआ है। यहां के लोगों ने सांसद पर नाराजगी जाहिर करने के बावजदू फिर सांसद को यहां से भारी लीड़ दिलाई है। इस बार सांसद का बहाना लोग नहीं मानेंगे। इस बार यहां के लोगों ने नाराजगी के बावजूद जो लीड सांसद को दिलाई है, उससे लोगों को उम्मीद भी है कि यहां विकास की गति को अमलीजामा मिलेगा। दिसंबर, 2016 में सांसद रामस्वरूप शर्मा ने मनाली में कहा था कि  मनाली गांव के विकास में हिमाचल की कांग्रेस सरकार यहां के विकास में कुछ नहीं कर पा रही है। इस बार यहां के लोगों को विकास चाहिए न कि बहाना। बता दें कि सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत सांसद रामस्वरूप शर्मा ने गोद लिए मनाली गांव के लोग विकास नहीं होने पर काफी खफा थे, लेकिन इसके बावजूद भी मनाली गांव-1 और मनाली गांव-2 बूथों में रामस्वरूप शर्मा को कुल 726 मत पड़े हैं, जबकि कांग्रेस को मात्र 290 वोट पड़े हैं। मनाली गांव-1 बूथ में भाजपा को 359 और मनाली गांव-2 बूथ में 367 मत पड़े हैं। भाजपा को यहां से 436 वोटों की लीड़  मिली है। इसके साथ-साथ  सांसद रामस्वरूप शर्मा के लिए भूभू जोत टनल और जलोड़ी जोत टनल का कार्य भी किसी बड़ी चुनौती से कमी नहीं होगा, जहां लगघाटी के लोगों ने कांग्रेस का गढ़ होने के बावजूद  उन्हें लीड दिलाई है। वहीं, बाह्य सिराज के लोगों ने भी इस बार बड़ी लीड़ दी है। यही नहीं, धार्मिक नगरी मणिकर्ण घाटी की सड़क के प्रोजेक्ट को धरातल पर  उतारना होगा।

You might also like