चंदेल बोले,अनुराग का ग्राफ गिरा

प्रेम कुमार धूमल के वक्त भाजपा का गढ़ था हमीरपुर,अब सांसद का लोकसंपर्क नहीं रहा

हमीरपुर -ऐसा नहीं है कि हमीरपुर शुरू से ही भाजपा के कब्जे में रहा। नारायण चंद पराशर के वक्त यह कांग्रेस का गढ़ था। लेकिन जब प्रो. प्रेम कुमार धूमल सीएम बने तो जाहिर है उसका बहुत बड़ा असर यहां पड़ा। धूमल जी भी यहां से सांसद रहे, मैं रहा और अब अनुराग ठाकुर हैं। यह सच है कि यहां भाजपा का दबदबा रहा लेकिन यह भी हकीकत हैं कि परिस्थितियां अब बदल रही हैं। यह कहना है हिमाचल कांग्रेस में चुनाव प्रचार कमेटी के सह संयोजक और पूर्व भाजपा नेता सुरेश चंदेल का। हमीरपुर में भाजपा की सल्तनत के बारे में पूछे गए सवाल पर चंदेल ने हमीरपुर में कहा कि धूमल जी के सीएम बनने के बाद परिस्थितियां बदलीं, लेकिन अब फिर हालात बदल रहे हैं और कांग्रेस यहां मजबूत हो रही है। अब न यहां सीएम का प्रभाव है न ही कैंडीडेट का। उन्होंने कहा किजो अनुराग कभी एक लाख 70 हजार में जीते थे वह पिछली बार 98 हजार मतों से जीते हैं। ऐसे में साफ है कि वह नीचे की ओर आ रहे हैं। बीजेपी छोड़ने के सवाल पर सुरेश चंदेल ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अब वो नहीं रही जहां वरिष्ठ नेताओं की इज्जत होती थी। बीजेपी की कार्यशैली से परेशान होकर मैंने पार्टी को छोड़ा। कांग्रे्रस में लंबी पारी खेलने के सवाल पर चंदेल ने कहा कि मैं यह कहना चाहूंगा कि देश की सबसे बड़ी पार्टी है सबको साथ लेकर चलने वाली पार्टी है।  बीजेपी द्वारा कांग्रेस पर 70 साल देश के साथ अन्याय करने की बात पर चंदेल ने कहा कि ऐसे लोगों को अपना ज्ञान बढ़ाने की जरूरत है। आजादी के बाद देश की क्या हालत थी और आज देश कहा पहुंचा है यह लंबा अध्ययन का विषय है।

गमले के पौधे को जमीन की हकीकत पता नहीं होती

पत्रकार वार्ता में सुरेश चंदेल ने भाजपा प्रत्याशी अनुराग ठाकुर पर भी तंज कसे। चंदेल ने आरोप लगाया कि अनुराग ठाकुर अपने संसदीय क्षेत्र में जनता तक नहीं पहुंच पाए हैं। उन्होंने कहा कि आज पूरे हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में यह सवाल खड़ा हुआ है की सांसद अनुराग जमीन से संपर्क नहीं रख पाए हैं। लोगों के मन में इस बात की पीड़ा है और आने वाले चुनावों में अनुराग ठाकुर को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।

 

You might also like