चुनावः तवज्जो न मिलने से हाटी खफा

नाहन—जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के करीब तीन लाख लोगों से जुड़ा 133 पंचायतों का हाटी समुदाय को जनजातीय घोषित करने के मुद्दे को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा नाहन चुनावी रैली के दौरान तथा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सोलन में आयोजित रैली में जिक्र न किए जाने को केंद्रीय हाटी समिति ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। केंद्रीय हाटी समिति के अध्यक्ष डा. अमी चंद व महासचिव कुंदन सिंह शास्त्री ने यहां जारी बयान में कहा कि करीब तीन लाख हाटियों को उम्मीद थी कि देश के प्रधानमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिमला संसदीय क्षेत्र की दो बड़ी चुनावी जनसभाओं में करीब छह दशक पुराने हाटी समुदाय को जनजातीय घोषित करने के मुद्दे को प्रमुखता से दौहराएंगे। यह दुर्भाग्य है कि इस मुद्दे पर न तो देश के प्रधानमंत्री की ओर से कोई बयान आया न ही भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने इस मुद्दे का जिक्र किया। करीब छह दशक पुराने गिरिपार क्षेत्र के हाटी मुद्दे को गांधीगिरी से उठा रहे केंद्रीय हाटी समिति के प्रतिनिधियों का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी ने वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव के बाद वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भी प्रमुखता से इस मुद्दे को लोगों के समक्ष रखा था, परंतु वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में इस मुद्दे का जिक्र न करना हाटी समुदाय के लिए गलत संदेश दे गया है। केंद्रीय हाटी समिति केे अध्यक्ष डा. अमी चंद, महासचिव कुंदन सिंह शास्त्री ने बताया कि यह जनभावनाओं से जुड़ा अहम मुद्दा है तथा इस पड़ाव पर इसे अनदेखा करना जनता की नाराजगी को स्पष्ट करता है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय हाटी समिति जनजातीय अधिकार के लिए अपना तर्कसंगत प्रयास जारी रखेगी तथा केंद्र में आने वाली नई सरकार केे साथ पुनः तालमेल स्थापित करेगी। उन्होंने कहा कि उन्होंने गिरिपार क्षेत्र केे लोगों से संयम बरतने का आह्वान किया तथा कहा कि केंद्र की नई सरकार केे समक्ष एक बार पुनः जिला सिरमौर के गिरिपार क्षेत्र के हाटी समुदाय से जुड़े मुद्दे को प्रमुखता से उठाया जाएगा। गौर हो कि वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान वर्तमान केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी नाहन केे ऐतिहासिक चौगान मैदान में हाटी के मुद्दे को सत्ता में आने पर प्राथमिकता की बात की थी। इसके अलावा केंद्रीय हाटी समिति के प्रतिनिधिमंडल इस मुद्दे पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी मिले थे।

You might also like