चुनावों में पकड़ी सात करोड़ की शराब

शिमला – प्रदेश में लोकसभा चुनाव के लिए एक लंबा प्रचार अभियान चला। लंबी आचार संहिता के दौरान अवैध रूप से काम करने वालों पर भी सख्ती बरती गई। चुनावी मुहिम के दौरान आबकारी एवं कराधान महकमे ने पुलिस के साथ मिलकर अवैध कारोबारियों पर शिकंजा कसा। इस दौरान मंडी जिला सबसे ऊपर रहा, जहां पर सबसे अधिक अवैध शराब बरामद की गई है। यहां पर बड़ी संख्या में छापामारी और धरपकड़ की गई, जिसके बाद एक करोड़ 25 लाख 80 हजार 107 रुपए की शराब पकड़ी गई। मंडी ने 803 रेड में इतनी शराब पकड़ी है, जिसकी कीमत पूरे प्रदेश में सबसे अधिक रही है। आबकारी महकमे को इसका एक बड़ा श्रेय जाता है, जिसने अवैध कारोबारियों पर पूरे चुनाव में शिकंजा कसा हुआ था। पूरी आचार संहिता के दौरान पकड़ी गई अवैध शराब की कीमत की बात करें, तो बिलासपुर में एक करोड़ तीन लाख 80 हजार 264 रुपए, नूरपुर में 38 लाख 99 हजार 138, शिमला में एक करोड़ तीन लाख 26 हजार 122, हमीरपुर में 63 लाख 99 हजार 834, कांगड़ा में एक करोड़ आठ लाख पांच हजार 283, कुल्लू में 16 लाख 85 हजार 671, सिरमौर में 20 लाख तीन हजार 608, साउथ जोन परवाणू में 39 लाख 63 हजार 377, सोलन में 31 लाख चार हजार 779, नार्थ जोन पालमपुर में 26 लाख 54 हजार 996, चंबा में 21 लाख 81 हजार 813, सेंटल जोन ऊना में 17 लाख 89 हजार 186, बद्दी में पांच लाख 85 हजार 464 व किन्नौर जिला में 7575 रुपए की अवैध शराब अलग-अलग कार्रवाई के दौरान पकड़ी गई है।

आचार संहिता में 9336 स्थानों पर रेड

प्रदेश में आचार संहिता के दौरान आबकारी कराधान महकमे द्वारा 9336 रेड की गई। कई जगह गुप्त सूचना के आधार पर रेड की गई, तो अधिकांश नाकाबंदी के दौरान अवैध कारोबारियों पर शिकंजा कसा गया है। अलग-अलग जिलों में हुई रेड की बात करें, तो बिलासपुर में पूरे चुनाव के दौरान 465, मंडी में 803, नूरपुर में 1011, शिमला में 574, हमीरपुर में 724, कांगड़ा में 801, कुल्लू में 210, सिरमौर में 478, परवाणू में 336, चंबा में 370, ऊना में 447, बद्दी में  130, सेंट्रल जोन ऊना में 806 रेड की गई है।

You might also like