चौपाल की सुमित्रा का सहारा बना राधा एनजीएओ

मनाली—जिला शिमला के चौपाल की बोरा पंचायत की दृष्टि बाधित सुमित्रा और उनके चार बच्चों के लिए मनाली की राधा एनजीओ सुदर्शना ठाकुर मां बनकर सामने आई। वर्षों से अनाथ और बेसहारों को पनाह देने वाली संस्था पर एक समाजसेवी संजय शर्मा ने राधा एनजीओ पर विश्वास जताकर मां और बच्चों को ग्रामीणों की मदद से मनाली के खकनाल पहुंचाया।  मनाली की राधा एनजीओ की सुदर्शना ठाकुर सुमित्रा व चारों बच्चों को अपना कर उनकी ममता और गौरवमय हो गई है। सुमित्रा के चार बच्चे 13 साल का नीरज 10 साल सरोजना, सात साल संदीप व तीन साल का सुभाष बच्चा शामिल है। सुमित्रा के पति की मौत अढ़ाई साल पहले हुई थी और दृष्टि बाधित होने से  अपने बच्चो के साथ नरक से जिंदगी जी रही थी। सुमित्रा का बड़ा बेटा नीरज ढाबे पर काम करता था। सुमित्रा जंगली घास खिलाकर बच्चो को पाल रही थी। सुमित्रा का मामला जब मीडिया के जरिए सामने आया, तो समाजसेवी संजय शर्मा उनकी मदद को आगे आए।

You might also like