छह सरकारी कर्मियों पर गाज

केंद्रीय चुनाव आयोग ने आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर की कार्रवाई

शिमला – केंद्रीय चुनाव आयोग के राडार पर आए एक प्रशासनिक अफसर समेत छह अधिकारी-कर्मचारियों पर गाज गिरी है। चुनाव आयोग ने ‘नेतागिरी’ करने पर तीन कर्मचारियों को सस्पेंड किया है। आरोप है कि तीनों कर्मचारी अपनी सरकारी सेवाओं की बजाए लोक सभा चुनाव में राजनीतिक दलों के पक्ष में प्रचार कर रहे थे। इसके अलावा एक कर्मचारी को पोलिंग ट्रेनिंग में बाधा डालने पर सस्पेंशन सजा सुनाई गई है। चुनाव आयोग की पहली गाज ईवीएम स्ट्रांग रूम मामले में एसडीएम चौपाल पर गिरी थी। इसके अलावा लोकसभा चुनावों में आदर्श चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन के आरोप में अब तक 20 कर्मचारियों को नोटिस दिए जा चुके हैं। पुख्ता सूचना के अनुसार चुनाव आयोग ने स्वास्थ्य विभाग के मेल हेल्थ वर्कर को कांग्रेस के पक्ष में चुनाव प्रचार करने पर निलंबित किया है। बैजनाथ के लांघू (गदियाड़ा) के मेल हेल्थ वर्कर रवि स्याल के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत की गई थी। बैजनाथ भाजपा मंडल के अध्यक्ष कर्ण सिंह ने अपनी शिकायत में कहा था कि रवि स्याल ने पंचरुखी में कांग्रेस की मीटिंग में हिस्सा लिया है। इसके अलावा वह कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। नेतागिरी के आरोप में दूसरी गाज राजकीय प्राथमिक पाठशाला संगड़ाह के अध्यापक इंद्र सिंह पर गिरी है। रोचक है कि इंद्र सिंह को चुनाव के लिए संगड़ाह में बीएलओ तैनात किया गया है। इसी बीच भाजपा नेता चंद्रमोहन ठाकुर ने चुनाव आयोग को भेजी शिकायत में कहा था कि बीएलओ संगड़ाह राजनीतिक गतिविधियों में संलिप्त है तथा कांग्रेस के पक्ष में चुनाव प्रचार कर रहे हैं। इसी जिला के सेल सुपरवाइजर फूड सिविल सप्लाई बलवीर सिंह के खिलाफ भाजपा के पक्ष में चुनाव प्रचार का आरोप है। कांग्रेस के विनय कुमार ने चुनाव आयोग को भेजी शिकायत में कहा था कि भाजपा ने हरिपुरधार स्थित मंदिर में बैठक की थी। इसमें सेल सुपरवाइजर ने हिस्सा लिया था और भाजपा के पक्ष में प्रचार की रणनीति बनाईर् थी। इसके चलते नेतागिरी की तीसरी गाज बलवीर सिंह पर गिरी है। चुनाव आयोग ने सिरमौर जिला के ददाहू स्थित राजकीय माध्यमिक स्कूल बड़ाग के टीजीटी बलविंद्र सिंह को पोलिंग ट्रेनिंग के दौरान बाधा उत्पन्न करने पर सस्पेंड किया है। उल्लेखनीय है कि लोकसभा चुनावों की घोषणा के तुरंत बाद चुनाव आयोग ने आईएएस अधिकारी मुकेश रिप्सवाल को चार्जशीट करने के आदेश जारी किए थे। इनके खिलाफ प्रतिबंधित स्ट्रांग रूम को दो बार खोलने का आरोप है। इसके चलते प्रशासनिक अधिकारी मुकेश रिप्सवाल को चार्जशीट किया गया है।

डीसी बिलासपुर पर पैनी नजर रखने के आदेश

चुनाव आयोग ने कांग्रेस की शिकायत पर डीसी बिलासपुर विवेक भाटिया की कार्यप्रणाली पर पैनी नजर रखने के आदेश दिए हैं। हालांकि कांग्रेस के आरोपों पर विवेक भाटिया को क्लीन चिट जारी की गई है।

डीसी कांगड़ा पर आज आ सकता है फैसला

कांग्रेस की खातिरदारी के आरोप में डीसी कांगड़ा संदीप कुमार के खिलाफ चुनाव आयोग शुक्रवार को अपना फैसला सुना सकता है। इसके अलावा एसडीएम धर्मशाला एसके पराशर तथा डीएसपी बलवीर जसवाल पर भी कार्रवाई संभव है।

You might also like