जे एंड के में खत्म हो राष्ट्रपति शासन

श्रीनगर – राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने बुधवार को राज्य में जल्द ही विधानसभा चुनाव कराए जाने का समर्थन करते हुए कहा कि हम तो चाहते हैं कि यहां जल्द से जल्द निर्वाचित सरकार बहाल हो। लेकिन चुनाव कब होंगे, कैसे होंगे यह तो चुनाव आयोग को तय करना है। बुधवार को यहां जहांगीर चौक-रामबाग फ्लाईओवर के दूसरे चरण को जनता को समर्पित करने के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि हम चाहते हैं कि यहां राष्ट्रपति शासन जल्द समाप्त हो। हम चुनाव कराने के लिए तैयार हैं। लेकिन विधानसभा चुनाव कराने का अंतिम फैसला चुनाव आयोग को करना है। राज्य की नौकरशाही में कुछ अधिकारियों द्वारा राज्य में निर्वाचित सरकार की बहाली में रुकावट पैदा करने संबंधी सवाल पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मेरी जानकारी में ऐसा कुछ नहीं है। हाइवे पर नागरिक वाहनों की आवाजाही पर सप्ताह में दो दिन की पाबंदी संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि इससे हुई असुविधा के लिए मैं लोगों से क्षमा चाहता हूं। हमने यह पाबंदी किसी को तकलीफ देने के लिए नहीं लगायी थी, यह फैसला राष्ट्रीय हित में लिया गया था। लेकिन अब यह पाबंदी पूरी तरह हटा ली गई है। यहां यह बताना असंगत नहीं होगा कि 19जून 2018 में भाजपा द्वारा पीडीपी-गठबंधन सरकार से अलग होने के बाद तत्कालीन राज्यपाल नरेंद्र नाथ वोहरा ने विधानसभा को निलंबित करते हुए राज्यपाल शासन लागू कर दिया था। वोहरा के उत्तराधिकारी सत्यपाल मलिक ने राज्य में शासन की बागडोर संभालने के बाद गत 21 नवंबर को राज्य विधानसभा को पीडीपी और पीपुल्स कान्फ्रेंस के सरकार बनाने के परस्पर विरोधी दावों के बीच भंग कर दिया था। नियमानुसार राज्य विधानसभा को भंग किए जाने के छह माह के भीतर राज्य में नए विधानसभा चुनाव कराए जाना जरुरी है, लकिन विशेष परिस्थितियों में यह चुनाव कुछ और समय क लिए टाले जा सकते हैं। राज्य में 20 दिसंबर 2018 से राष्ट्रपति शासन लागू है। सभी राजनीतिक दल विधानसभा चुनाव कराए जाने के पक्षधर हैं।

You might also like