जॉनी ये पुलिया नहीं, आफत है

सोलन—कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर पुलियां बिछाने के लिए किए जा रहे गड्ढे  दुर्घटनाओं का सबब बनते जा रहे है। कारण यह है की पुलियां को बिछाने के लिए खोदी जा रही सड़क पर कार्य नहीं किया जा रहा है और न ही उनमें पुलियां बिछाई जा रही हंै। इसके चलते नेशनल हाई-वे पर कई गाडि़या गढ्डे में जा गिरी है। लोगों द्वारा कई बार इसकी शिकायत फोरलेन कंपनी को की है, लेकिन इसके बावजूद फोरलेन कंपनी द्वारा इन गड्ढों को नहीं भरा गया है। सोमवार देर रात भी कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर सनवारा के समीप एक वाहन पुलियों के लिए बनाए गड्ढे में जा गिरी। इस दौरान गनीमत यह रही कि कार में सवार किसी व्यक्ति को चोटें नहीं आई हंै।  गौरतलब हो कि कालका-शिमला नेशनल हाई-वे पांच पर फोरलेन निर्माण कार्य तेजी से चला हुआ है। सड़क पर परवाणू से सोलन (चंबाघाट) तक जगह-जगह पुलियां डालने के लिए कार्य किया जा रहा है, लेकिन बनाई जा रही पुलियों को सही समय पर ठीक न करने के कारण दुर्घटनाओं को न्यौता दे रही है। जिन जगहों पर गड्ढे किए जा रहे हैं, उससे पहले फोरलेन निर्माण कर रही कंपनी द्वारा डायवर्जन का बोर्ड नहीं लगा रखा है। अधिकतर परेशानी लोगों को रात के समय होती है जब डायवर्जन का बोर्ड न लगा होने से वाहन चालक गलत सड़क पर आ जाते है। लोगों ने इस बारे कई बार स्थानीय पंचायतों व फोरलेन निर्माता कंपनी को इस बारे बताया है। परंतु फिर भी सड़क को ठीक नहीं किया गया। लोगों का कहना है कि जल्द नेशनल हाई-वे पर इन गड्ढों को भर दिया जाए। इसी के जहां पर भर कार्य चला हुआ है वहां साइन बोर्ड लगाया जाए।

You might also like