ताकि छात्रों को सफल बना सकें शिक्षक

शिमला—हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के यूआईआईटी में चल रहे तीन दिवसीय संकाय-विकास कार्यक्रम का रविवार को समापन किया गया। समापन समारोह पर संस्थान के निदेशक प्रो. पीएल शर्मा ने बताया कि इस संकाय विकास कार्यक्रम में हिमाचल, पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान, महाराष्ट्र और तमिलनाडू राज्यों से 60 शिक्षक प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में सभी शिक्षकों को ऐसे टिप्स दिए गए, जिनसे शिक्षार्थियों, विद्यार्थियों और शिक्षकों के शैक्षणिक  संबंध मजबूत बना कर, शिक्षक विद्यार्थियों का विश्वास जीत  कर उनके सफल व उज्जवल भविष्य का चिंतन करने में अग्रणी भूमिका निभा सकें। इस उपलक्ष्य के मुख्यातिथि प्रो. शशि धीमान, पूर्व कुलपति हिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय ने कहा कि इस प्रकार के कार्यक्रमों के आयोजन से शिक्षकों के अंदर नई ऊजा का संचार होता है।  आज के समय में शिक्षा के स्तर पर बढ़ती चुनौतियों का सामना करने के लिए शिक्षकों को तैयार रहना चाहिए। साथ ही देश के सर्वांगीण विकास में अपना योगदान देना चाहिए। अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद नई दिल्ली इस प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से तकनीकी शिक्षण  संस्थानों  में कार्यरत शिक्षकों और विद्यार्थियों व शिक्षार्थियों के मानसिक विकास  के लिए  कृतसंकल्पित है। समापन के इस मौके  पर प्रोफेसर  रमिंदर सिंह उप्पल, प्रो. जवाहल ठाकुर, यूआईटी के सभी शिक्षक व कर्मचारी उपस्थित रहे।

You might also like