तीन महीने में तैयार होगा 33 केवी सब-स्टेशन

संगड़ाह—उपमंडल मुख्यालय संगड़ाह में पहली अप्रैल, 2017 को शिलान्यास होने के बावजूद दो साल से लंबित 33 केवी विद्युत सब-स्टेशन का निर्माण कार्य विभाग के दावे के मुताबिक आगामी 31 जुलाई तक पूरा हो जाएगा। पांच करोड़ की इस परियोजना की पहली निर्धारित निर्माण अवधि 31 मार्च, 2018 तथा दूसरी 31 मार्च, 2019 तय की गई थी तथा लाइन व सब-स्टेशन का अधिकतर वास्तविक निर्माण कार्य पूरा होने के चलते विभाग द्वारा अब संबंधित ठेकेदार को अंतिम डेडलाइन दी गई है। गत 19 नवंबर को एसवीएम, स्थानीय व्यापार मंडल व पंचायत पदाधिकारियों द्वारा मिनी सचिवालय संगड़ाह के उदघाटन के दौरान इस बारे मुख्यमंत्री को शिकायत पत्र सौंपा जा चुका है। इससे पहले अक्तूबर माह में भी क्षेत्रवासी इस बारे सीएम को शिकायत भेज चुके हैं। विभाग के संबंधित अधिकारियों के अनुसार 33 केवी लाइन का अधिकतर निर्माण कार्य पूरा हो चुका है तथा ठेकेदार को अगले माह तक स्विचयार्ड अथवा सब-स्टेशन का सिविल वर्क भी पूरा करने को कह दिया है। अब तक उक्त सब-स्टेशन की 15 किलोमीटर लाइन में से आधे से ज्यादा 33 केवी लाइन तैयार हो सकी है। ठेकेदार के अनुसार कुछ निर्माण सामग्री की कमी के चलते निर्माण में देरी हुई तथा अब कार्य प्रगति पर है। विद्युत सब-स्टेशन के शिलान्यास समारोह में मौजूद नेताओं व अधिकारियों द्वारा उस दौरान छह माह के भीतर उक्त निर्माण कार्य पूरा करवाए जाने के दावे किए गए थे। विभाग के अनुसार ठेकेदार को दो माह में निर्माण कार्य पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि इसे चालू करने में कुछ दिन ओर लग सकते हैं। पांच करोड़ सात लाख की इस परियोजना के तहत तीन करोड़ नौ लाख से जहां 3.15 एमवीए का ट्रांसफार्मर अथवा सब-स्टेशन लगाया जाना है। वहीं 173 लाख की लागत से 15 किलोमीटर 33 केवी लाइन तथा 25 लाख की लागत से पांच किलोमीटर 11 केवी लाइन बिछाई जानी है। चाढ़ना सब-स्टेशन से भी संगड़ाह तक लाइन बिछाई जानी है, जिसके लिए विभाग द्वारा अब तक सर्वेक्षण भी नहीं किया गया है। विगत डेढ़ दशक से इलाके में आए दिन अघोषित पावर कट लगने तथा क्षेत्र में विद्युत कर्मियों के करीब आधे पद खाली होने के चलते पिछले दो विधानसभा चुनाव में यहां विद्युत सब-स्टेशन व सहायक अभियंता कार्यालय खोलने की लंबित मांग मुख्य मुद्दा रही है। वर्तमान में विकास खंड संगड़ाह की 41 पंचायतों को चाढ़ना, ददाहू व पनोग से विद्युत आपूर्ति मुहैया करवाई जा रही है तथा तीनों सब-स्टेशन 25 से 50 किलोमीटर दूर होने के चलते यहां बिजली की समस्या बरकरार है।

You might also like