थर्ड फ्रंट की कोशिश को झटका

केसीआर की कवायद पर स्टालिन ने फेरा पानी; कहा, तीसरे मोर्चे की कोई संभावना नहीं

नई दिल्ली –डीएमके अध्यक्ष एमके स्टालिन ने टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव (केसीआर) की तीसरे मोर्चे की कवायद को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के बाद गैर भाजपा और गैर कांग्रेस वाले तीसरे मोर्चे के लिए कोई संभावना नहीं है। हालांकि इस संबंध में कोई निर्णय 23 मई को होने वाली मतगणना के बाद ही किया जा सकेगा। स्टालिन का यह बयान ऐसे समय में आया है, जब तेलंगाना में सत्तारूढ़ और तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख एवं मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की उनसे एक दिन पहले ही मुलाकात हुई है। गौरतलब है कि राव का यही कोशिश रही है कि एक गैर कांग्रेसी और गैर भाजपाई मोर्चे का गठन हो, जिसमें क्षेत्रीय दलों की अहम भागीदारी हो। तमिलनाडु में विपक्षी दल के नेता स्टालिन ने कहा कि राव ने राज्य का दौरा किसी गठबंधन बनाने को ध्यान में रखकर नहीं किया है। उन्होंने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा कि टीआरएस प्रमुख यहां गठबंधन पर बातचीत करने नहीं आए थे। वह तमिलनाडु के विभिन्न मंदिरों में पूजा-अर्चना के उद्देश्य से यहां पहुंचे थे और इसी क्रम में औपचारिक भेंट करने के लिए उन्होंने समय मांगा था।

सरकार बनाने में कांग्रेस से समर्थन को तैयार तीसरा मोर्चा, पर नहीं देंगे ड्राइवर सीट

हैदराबाद। लोकसभा चुनाव में भले ही अभी एक चरण बाकी हो, पर राष्ट्रीय ही नहीं क्षेत्रीय पार्टियों ने भी संभावित नतीजों पर सरकार बनाने के प्लान तैयार करने शुरू कर दिए हैं। इसमें एक संभावना यह मानी जा रही है कि अगर इस चुनाव में एनडीए गठबंधन सरकार बनाने लायक सीटें नहीं ला पाया और कांग्रेस भी कोई चमत्कार नहीं कर सकी तो क्षेत्रीय पार्टियों का तीसरा मोर्चा सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का समर्थन लेने से पीछे नहीं हटेगा। जी हां, तीसरे मोर्चे की कवायद शुरू करने वाली पार्टी टीआरएस (तेलंगाना राष्ट्र समिति) ने मंगलवार को यह बात कही। पार्टी ने कहा कि तीसरा मोर्चा बनाने वाले तेलंगाना के सीएम के. चंद्रशेखर राव सरकार के लिए कांग्रेस से समर्थन लेने को तैयार हैं, लेकिन उनकी शर्त सिर्फ इतनी होगी कि कांग्रेस ड्राइवर सीट पर बैठने की मांग न करे। टीआरएस के प्रवक्ता आबिद रसूल खान ने कहा कि पार्टी राहुल गांधी के साथ बातचीत करने को तैयार है। उन्होंने कहा कि केसीआर (राव) इस बात पर दृढ़ हैं कि ड्राइवर सीट पर फेडरल फं्रट रहेगा और वही सरकार चलाएगा।

You might also like