ददाहू में छात्राओं के मिड-डे मील में कीड़े

नाहन – राजकीय कन्या उच्च विद्यालय ददाहू में शुक्रवार को कन्याओं के मिड-डे मील भोजन में दर्जनों कीड़े पाए जाने से बच्चों में हड़कंप मच गया। स्कूलों में कक्षा छठी से आठवीं तक को सरकार की योजना अनुसार मध्यांतर भोजन परोसा जाता है, जिसकी गुणवत्ता के दावे भी सरकार करती है, मगर हकीकत यह है कि स्कूलों में परोसे जाने वाले मिड-डे मील की वास्तविक गुणवत्ता क्या है, इसका खुलासा शुक्रवार को कन्या उच्च विद्यालय ददाहू में हुआ। यहां कन्याओं को भोजन परोसने के साथ ही दर्जनों कन्याओं के भोजन में कई कीड़े मिले, जिसके बाद अन्य बच्चों भोजन कर लिया था, को भी भोजन में कीड़े होने के अहसास से आशंकित हुए। ददाहू कन्या स्कूल में कुछ छात्राओं ने मुख्याध्यापक को बाकायदा एक पत्र लिखकर मिड-डे मील में कीड़े पाए जाने की बात लिखी। उधर, कई अभिभावकों ने इस गंभीर मामले में स्कूल और शिक्षा प्रशासन से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। बताया जाता है कि यहां मिड-डे मील कर्मी महिला को कई मर्तबा साफ तरीके से मिड-डे मील का भोजन तैयार करने के लिए कहा जाता है, मगर कर्मी महिला उल्टे विद्यालय प्रशासन पर ही सवाल खड़े कर देती है। विद्यालय प्रशासन के बार-बार कहने पर भी उक्त महिला मिड-डे मील कर्मी पर असर नहीं हो रहा है, जिसके चलते छात्राओं को यहां पर गुणवत्ता के मामले में खरा न उतरने वाले तथा कीड़े और दुर्गंधयुक्त भोजन को खाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। हद तो शुक्रवार को हो गई, जब परोसे गए भोजन में दर्जनों कीड़े छात्राओं की प्लेटों में परोसते वक्त पाए गए। उधर, मुख्याध्यापक कन्या उच्च विद्यालय ददाहू संजय कुमार ने बताया कि मिड-डे मील में कीड़े पाए जाने का मामला संज्ञान में आया है। छात्राओं ने इसकी लिखित शिकायत भी उन्हें सौंपी है। उन्होंने बताया कि मिड-डे मील कर्मी को इस बाबत कई मर्तबा गंभीरता से कहा गया है, मगर मिड-डे-मिल कर्मी अपनी ड्यूटी को सही रूप से करने में कोताही बरतती है। वहीं आगामी समय में इस मामले में विशेष ध्यान रखा जाएगा।

You might also like