‘दिव्य हिमाचल’ के मंच पर सात सुरों का संगम

58 प्रतिभागियों ने सुरीले तरानों से बांधा समां

 हमीरपुर—‘दिव्य हिमाचल’ के इवेंट हिमाचल की आवाज सीजन-सात के ऑडिशन में सुरों का सरताज बनने के लिए शनिवार को अंतरिक्ष मॉल में जंग छिड़ गई। सुरीली आवाज के मालिक कई प्रतिभागियों ने मंच संभालते ही समा बांध दिया। समय बीतने के साथ ही सुरों की लड़ी बुनती चली गई। आयोजन स्थल पर बैठे श्रोतागण भी मंत्रमुग्ध होकर प्रतिभागियों की परफार्मेंस देखते रहे। तालियों की गड़गड़ाहट मंच संभालने वाले प्रतिभागियों के हौसले लगातार बढ़ाती रही। रियाज, ताल व लय का संगम देखकर हर कोई हैरान था। जजमेंट पैनल ने भी प्रतिभागियों का हुनर परखने के साथ ही इन्हें कई महत्त्वपूर्ण टिप्स भी दिए। कई महिलाएं अपने पतियांे के साथ ऑडिशन देने पहुंचीं। परिजनों से उत्सावर्धन के बाद महिलाओं ने मंच पर आकर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा दिया। बता दें कि शनिवार को शहर के अंतरिक्ष मॉल में हिमाचल की आवाज सीजन-सात के ऑडिशन लिए गए। जिला भर से 58 प्रतिभागियों ने ऑडिशन दिया। इनमें स्कूलों के बच्चे भी शामिल रहे। पहाड़ी फोक से लेकर पंजाबी पॉप का तड़का मंच पर लगा। लोकगीतों की कड़ी भी यहां उपस्थित प्रतिभागियों ने पिरोई। अपनी संस्कृति पर आधारित गीत प्रस्तुत कर जजमेंट पैनल का दिल जीतने में भी कई प्रतिभागी कामयाब रहे। इन्हें मुख से निकले संगीत के बोल सुनकर जजमेंट पैनल इतना प्रभावित हुआ कि कई अन्य गानों की फरमाइश कर डाली। पहले जूनियर वर्ग व दोपहर बाद सीनियर वर्ग के ऑडिशन लिए गए। जजमेंट पैनल के सदस्यों ने प्रथम प्रतिभागी कनिका को टैग लगाकर ऑडिशन की शुरुआत की। सभी प्रतिभागियों को टैग आबंटित किए गए थे। टैग नंबर के साथ ही सभी ने अपनी प्रस्तुतियां दीं। नी मैं कम धंधे सारे छड़ के तेरी बंग द लै लां नाम, तलवारों पे सर वार दिए, अंगारों में जिस्म जलाया है, माये नी मेरिये शिमले दी राहें चंबा कितनी दूर सहित कई अन्य गानों की प्रस्तुति देकर प्रतिभागियों ने खूब वाहवाही लूटी।

गुरु सहित ऑडिशन देने पहुंची जिगिशा

हमीरपुर की जिगिशा अपने दिव्यांग गुरु राहुल शर्मा के साथ ऑडिशन देने पहुंची। प्रस्तुति से प्रभावित जजमेंट पैनल ने जिगिशा के गुरु राहुल शर्मा से भी सुरों का जादू बिखेरने की फरमाइश की। गुरु  ने मंच संभालते ही दिखा दिया कि हुनर क्या होता है। जजमेंट पैनल ने भी जिगिशा को राहुल शर्मा से सुरों के गुर बारीकी से सीखने के लिए कहा।

अनिकेत व आदित्या ने भी बांध दिया समां

ऑडिशन देने पहुंचे झरलोग स्कूल में पढ़ने वाले दो भाइयों अनिकेत व आदित्या ने अपनी आवाज का जादू बिखेरा। दोनों की भाइयों ने पहाड़ी व हिंदी फोक पर प्रस्तुतियां दीं। उनके परिजन उन्हें लेकर ऑडिशन स्थल पर पहुंचे थे। परिजनों ने बताया कि दोनों में संगीत के प्रति बहुत रुचि है। घर में भी दोनों रियाज करते रहते हैं।

अंतरिक्ष मॉल की हर किसी ने की तारीफ

शहर के प्रसिद्ध अंतरिक्ष मॉल की यहां पहुंचने वाला हर प्रतिभागी तारीफ कर रहा था। मॉल के बैंक्युट हाल में सभी प्रतिभागियों सहित यहां पहुंचने वाले श्रोतागणों के लिए बैठने की उचित व्यस्था की गई थी। बता दें कि अंतरिक्ष मॉल किसी पहचान का मोहताज नहीं है। नाम सुनकर ही इसकी छवि जहन में उभर आती है।

You might also like