दूसरी बार चैक होंगे 6583 छात्रों के पेपर

एचपीयू प्रशासन ने पहले चरण में पांचवें सेमेस्टर में फेल छात्रों के मैथ के पेपर चैक करने का लिया फैसला

शिमला – रूसा के पांचवें सेमेस्टर के तहत फेल हुए सैकड़ों छात्रों ने बुधवार को कुलपति से मिलकर उनका भविष्य बचाने की गुहार लगाई। इसके बाद आनन फानन में विश्वविद्यालय ने छात्रों को अपना फैसला सुना दिया कि पहले चरण में रूसा पांचवें सेमेस्टर में मैथ के सभी 6583 पेपर एचपीयू के प्रोफेसर से चैक करवाए जाएंगे। अगर पेपर चैकिंग की लापरवाही से ही छात्रों को फेल किया होगा, तो ऐसी स्थिति में दूसरी बार सभी विषयों के पेपर चैक होंगे। हालांकि दो माह से एचपीयू इस पर अभी तक कोई कार्रवाई ही नहीं कर पाया है। बता दें कि दो हफ्ते पहले छात्रों को बोला गया था कि एचपीयू ने कालेजों से पेपर मंगवा लिए हैं, पेपर दूसरी बार चैक किए जा रहे हैं। वहीं, अब सामने यह आ रहा है कि अभी तक विश्वविद्यालय में कालेजों से पांचवें सेमेस्टर के किसी भी छात्र का कोई पेपर ही नहीं आया है। सूत्रों की मानें तो एचपीयू ने पहले केवल छात्रों के विरोध से बचने के लिए ही यह इतना बड़ा झूठ बोला था। यह खुलासा तब हुआ, जब कुलपति से मिलने गए छात्रों को उन्होंने यह आश्वासन दिया कि मैथेमैटिक्स के सभी पेपर दूसरी बार एचपीयू के किसी प्रोफेसर से चैक करवाए जाएंगे। अगर उस दौरान पेपर चैंकिग के दौरान कुछ अंकों में बदलाव हुआ तो ऐसे में पांचवें सेमेस्टर के सभी विषय जिसमें साइंस, मैथ, कॉमर्स व आर्ट्स शामिल हैं,  के पेपर दूसरी बार चैक होंगे। बता दें कि रूसा के अंतर्गत पांचवें सेमेस्टर के मैथ के पेपर में लगभग 70 प्रतिशत छात्र फेल हैं। छात्रों का आरोप है कि पांचवें सेमेस्टर में 2600 से करीब ऐसे छात्र हैं, जिनके अंक 10 से कम हैं, वहीं 900 से ज्यादा ऐसे छात्र हैं, जिनके  नंबर जीरो हैं। इसी तरह बाकी विषयों में भी छात्रों के रिजल्ट की प्रतिशतता के बुरे हाल हैं।

जुलाई में काउंसिलिंग, नहीं कर पाएंगे शिरकत

रूसा के तहत पांचवें सेमेस्टर में छात्रों के फेल होने की वजह से अब वे छात्र पीजी एंट्रैंस की तैयारी भी नहीं कर पा रहे हैं। वहीं जिन छात्रों ने कई विषयों में एंट्रैंस दिए भी हैं, अगर उनका रिजल्ट समय पर नहीं आता है, तो ऐसे में जुलाई में होने वाली काउंसिलिंग से भी वह वंचित रह जाएंगे।

नाहन, कुल्लू, मंडी, अर्की से भी पहुंचे स्टूडेंट

बुधवार को पांचवें सेमेस्टर में फेल हुए लगभग 250 छात्र मंडी, कुल्लू, अर्की, नाहन से विश्वविद्यालय पहुंचे। इस दौरान छात्रों ने कुलपति से एक बार फिर इनसाफ की गुहार लगाई और कहा कि इस मामले को वह गंभीरता से लेते हुए उनकी इस समस्या का समाधान करें।

एसएफआई ने दिया तीन दिन का अल्टीमेटम

रूसा के तहत रिजल्ट में आई खामी को दूर करने के लिए एसएफआई ने भी एचपीयू प्रशासन को तीन दिन का अल्टीमेटम दिया है। तीन दिन के अंदर अगर छात्रों के पेपर दूसरी बार चैक नहीं होते हैं, तो एसएफआई इकाई उग्र आंदोलन करेगी।

You might also like