देव पूजन के साथ साहल मेला शुरू

साहल गांव में माता जालपा भगवती सरौण के सम्मान में आयोजन, माता के छोटे भाई आराध्य देव पाइंदल ऋषि डोलरा ने भी की शिरकत

पद्धर -उपमंडल पद्धर के ग्राम पंचायत कुन्नू के साहल गांव में माता जालपा भगवती सरौण को समर्पित तीन दिवसीय मेला धूमधाम से शुरू हुआ। मेला का शुभारंभ माता जालपा भगवती के रथ ने स्वयं किया। इस मौके पर जालपा भगवती के छोटे भाई आराध्य देव पाईंदल ऋषि डोलरा भी विशेष रूप से मौजूद रहे। मेला कमेटी अध्यक्ष मनोज कुमार ठाकुर ने दोनों देव रथों के साहल मंदिर में पहुंचने पर देव परंपरा अनुसार उनका स्वागत किया। मेला के शुभारंभ पर दोनों देवताओं की पूजा-अर्चना की। बाद में दोनों देवताओं के रथ मेला पंडाल में गए और प्राचीन सह की पूजा की। साहल मेला जोड़ा री जातर मेला से प्रख्यात है। वर्षों पूर्व इस प्रथा को बदलकर लोगों ने भगवती के आर्शिवाद से मेला शुरू किया, जो मेला आज तीन दिन तक हर्षोंल्लास के साथ मनाया जाता है। साहल मेला में माता जालपा भगवती का प्राचीन ठांव है। माता के आर्शिवाद से यहां माता का भव्य मंदिर निर्मित किया गया है, जिसमें माता की विशाल मुर्तियों की स्थापना की गई है। माता जालपा भगवती और देव पाइंदल ऋषि की क्षेत्र के लोगों के बीच अगाध आस्था है। तीन दिन तक दोनों देव रथ साहल मंदिर में रुकेंगे। मेले में महिला मंडलों के सांस्कृतिक स्पर्धाएंए खेलकूद प्रतियोगिता और वालीबाल प्रतियोगिता लोगों के मुख्य आकर्षण का केंद्र होंगी। इस मौके पर पुजारी मस्त राम, जीवानंद, मोती राम ठाकुर, देव पाइंदल  ऋषि मंदिर कमेटी के प्रधान जगदीश चंद, माता जालपा भगवती साहल मंदिर कमेटी के प्रधान मनोज कुमार, हरीश कुमार बनेर, रोशन लाल बिष्ठ, खीरामणि शर्मा, सुंदर शर्मा, योगेश शर्मा, पुष्प राज शर्मा, भुपेंद्र कुमार शर्मा, केवल कृष्ण, सुभाष चंद सहित मंदिर कमेटी के सभी सदस्य उपस्थित रहे।

 

 

You might also like