देव मिलन के साक्षी बने सैकड़ों

पद्धर—माता चामुंडा भगवती द्रंग को समर्पित तीन दिवसीय किसान मेला धूमधाम के साथ संपन्न हुआ। बड़ादेयो अजयपाल ब्रम्हा कासला, देव माहंूनाग कासला, माता चामुंडा भगवती हुल्लू, देव पाईंदल ऋषि डोलरा, देव पाइड्डदल ऋषि सिलग, माता चतुर्भुजा पाली, माता नव दुर्गा भराड़ा, नैणा भगवती कुलांदर, देव जाड़ापाताल कुलांदर ने मेले में मेहमान देवता के रूप में शिरकत की। मेला के समापन समारोह में भारतीय सेना से रिटायर्ड कैप्टन प्रेम सिंह ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि मेले, तीज त्योहार देव भूमि हिमाचल की संस्कृति के प्रतीक हैं। प्रेम सिंह ठाकुर ने मेले में आए देवताओं की पूजा-अर्चना की। उन्हें मेला कमेटी की ओर से नजराना राशि भेंट कर विदाई दी। मेला में विभिन्न महिला मंडलों और स्कूली बच्चों ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मेला के सभी प्रतिभागियों को मेला कमेटी की ओर से सम्मानित किया गया। मेला में पहली बार पधारे बड़ादेयो अजयपाल ब्रह्मा, देव माहूंनाग कासला, माता चामुंडा हुल्लू ने मेला सह के पास पूजा-अर्चना की। माता चामुंडा भगवती ने पाली मेला को पिछले 50-60 वर्षों से संजोया हुआ है। भगवती ने मेला में पधारे मेहमान देवताओ से देव मिलन कर उन्हें विदाई दी। देवताओं ने भी भगवती केे सह को नमन कर अपने अपने मंदिरों को प्रस्थान किया। माता चामुंडा भगवती और देव पाइंदल ऋषि ने मेला की शोभा बढ़ाने आए लोगों को आर्शिवाद दिया। इस मौके पर पंचायत प्रधान पवन कुमार, मेला कमेटी की ओर से सूबेदार हेम सिंह, मुरारी लाल, पंचायत पाली के सदस्य कांता ठाकुर, सांवरी देवी, धनेशरू, ज्ञान चंद, कंचन, खीमा राम समेत सभी महिला मंडलों के प्रधान उपप्रधान उपस्थित रहे।

You might also like