नई सरकार को बताएंगे पुरानी दिक्कतें

 गगरेट —भारतीय स्टेट बैंक की शाखाओं में कार्यरत अधिकारी वर्ग को पेश आ रही समस्याओं व उनकी मांगों को जानने के लिए इन दिनों हिमाचल प्रदेश के दौरे पर आए भारतीय स्टेट बैंक अधिकारी संघ चंडीगढ़ मंडल के अध्यक्ष संजय कुमार शर्मा ने अपनी टीम के साथ शुक्रवार देर सायं भारतीय स्टेट बैंक की गगरेट शाखा का दौरा कर यहां तैनात अधिकारियों के साथ बैठक का आयोजन कर उनकी समस्याओं को जानने का प्रयास किया। इस बैठक में संजय कुमार ने पाया कि इस शाखा में कर्मचारियों के पड़े अकाल के चलते अधिकारी वर्ग मानसिक दबाव में है। उन्होंने कहा कि शीघ्र ही इस समस्या को बैंक प्रबंधन के समक्ष उठाकर इसके निराकरण का प्रयास किया जाएगा। भारतीय स्टेट बैंक अधिकारी संघ चंडीगढ़ मंडल के प्रधान संजय कुमार शर्मा ने बताया कि संघ की कई मांगंे अभी केंद्र सरकार के समक्ष लंबित पड़ी हुई हैं और जानबूझ कर केंद्र सरकार इन्हें लटकाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि तेइस मई के बाद जो नई सरकार गठित होगी उसके साथ भी संघ वार्ता करने का प्रयास करेगा क्योंकि संघ की रिवाइजड पे-स्केल की मांग पर भी अभी विचार नहीं किया गया है। बेशक राष्ट्रीयकृत बैंकों का विरोध के बावजूद विलय कर दिया गया, लेकिन अभी भी कई बैंक शाखाएं कर्मचारियों की कमी से जूझ रही हैं। केंद्र में गठित होने वाली नई सरकार के समक्ष संघ अपनी मांगे प्रस्तुत करने से पहले इन दिनों विभिन्न प्रदेशों का दौरा कर अधिकारियों की समस्याओं व मांगों के बारे में जान रहा है, ताकि संघ अपना मांग-पत्र तैयार कर नई सरकार को प्रस्तुत कर इसके स्थायी समाधान की मांग कर सके। एक सवाल के जवाब में उन्होंने बैंकों के विलय के निर्णय को भी दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए कहा कि देश में पहले से ही नौकरियों में कटौती हुई है और बैंकों से विलय से नई नौकरियां भी पैदा न होने का संकट पैदा हो गया है। इस अवसर पर उनके साथ सचिव फाइनांस एपी शर्मा, उप सचिव फाइनांस पंकज शर्मा, सचिव एलएचओ संजय महाजन, हिमाचल माड्यूल के सहायक महासचिव अंजन केशव, एसबीआई गगरेट शाखा के मुख्य प्रबंधक आशीष कुमार डांडा, उपशाखा प्रबंधक पीएस सरण, ओपी जसवाल, गौरव चौधरी, संघ के पूर्व प्रधान पीसी हीर, डीएस गुलेरिया भी मौजूद थे।

You might also like