नालागढ़ के सेक्टर ऑफिसर पर भी कार्रवाई की तलवार

वोटिंग के दौरान वोट डिलीट करने का मामला

शिमला -मतदान प्रक्रिया के बीच ईवीएम से वोट डिलीट करने पर नालागढ़ के सेक्टर ऑफिसर भी चुनाव आयोग की कार्रवाई की जद में आ गए हैं। बिजली बोर्ड के अधिशासी अभियंता नालागढ़ (सेक्टर ऑफिसर) समेत पांच पोलिंग पार्टियों के कर्मचारियों को चार्जशीट किया गया है। केंद्रीय चुनाव आयोग ने सेक्टर ऑफिसर के अलावा 24 चुनाव अधिकारियों के खिलाफ दो दिन के भीतर आरोप पत्र तय करने के आदेश पारित किए हैं। जांच रिपोर्ट के आधार पर चुनाव आयोग ने इन्हें निलंबित किया है। आगामी कार्रवाई करते हुए आयोग ने इन सभी आरोपी कर्मियों को 24 मई तक चार्जशीट करने को कहा है। उल्लेखनीय है कि हिमाचल प्रदेश में मतदान प्रक्रिया में कोताही बरतने पर चुनाव आयोग ने छह पोलिंग पार्टियों को सस्पेंड कर दिया है। इनमें सबसे भयंकर चूक नालागढ़ के मतदान केंद्र 47-कश्मीरपुर की पोलिंग पार्टी ने की है। इस मतदान केंद्र पर पोलिंग पार्टी ने 36 वोट पड़ जाने के बाद ईवीएम से सभी वोट डिलीट कर दिए। इसके चलते इस मतदान केंद्र पर तैनात किए गए चारों कर्मचारियों के खिलाफ निलंबन के साथ चार्जशीट की सजा सुनाई है। इसके अलावा सेक्टर ऑफिसर को इस कोताही के लिए कसूरवार पाया है। जांच में पाया गया है कि कश्मीरपुर मतदान केंद्र में मॉक पोल के 50 वोट डाले गए थे। इन्हें डिलीट किए बिना पोलिंग पार्टी ने मतदान प्रक्रिया शुरू कर दी। दोपहर बाद ईवीएम में 86 वोट दर्ज हो गए। इसके बाद पोलिंग पार्टी को समझ आया कि इसमें 36 वोट वास्तव में कास्ट हुए हैं और 50 मॉक पोल के हैं। इस भयंकर चूक की सूचना उच्चाधिकारियों को दिए बिना पोलिंग पार्टियों ने सभी 86 वोट डिलीट कर दिए। इसी तरह चार अन्य मतदान केंद्रों में तैनात पोलिंग पार्टियां मॉक पोल के वोट डिलीट करना भूल गई। इनमें मंडी संसदीय क्षेत्र के नाचन विधानसभा क्षेत्र के तहत मतदान केंद्र संख्या 44-हरवाहनी तथा सलवाहन-18 में पोलिंग पार्टियों ने कोताही की है। इसके अलावा सरकाघाट के पोलिंग स्टेशन नंबर 65-चौक तथा कुल्लू जिला के मतदान केंद्र संख्या 38-ढालपुर में मॉक पोल के वोट डिलीट नहीं किए थे। इससे पहले मतदान की पूर्व संध्या पर बिलासपुर जिला के भगेड़ मतदान केंद्र में तैनात पोलिंग पार्टी ने ईवीएम की सील को तोड़ दिया था। पोलिंग पार्टी ने 18 मई की शाम को ही मतदान केंद्र पर ईवीएम को जोड़ कर मतदान के लिए पूर्व संध्या में कमर कस ली थी। नियमों के तहत पोलिंग पार्टी मतदान की सुबह प्रत्याशियों के एजेंट की उपस्थिति में ईवीएम की सील तोड़ कर इन्हें मतदान के लिए तैयार करती हैं। लिहाजा चुनावी प्रक्रिया के दौरान चुनाव आयोग के दिशा-निर्देशों की अवहेलना करने पर सभी छह पोलिंग पार्टियों को निलंबन की सजा सुनाई गई है।

पोलिंग पार्टियों ने यहां कर दी गड़बड़

मतदान केंद्र           जिला      कोताही

कश्मीरपुर सोलन     36 वोट डिलीट किए

सलवाहन मंडी       मॉक पोल डिलीट नहीं

हरवाहनी  मंडी       मॉक पोल डिलीट नहीं

भगेड़      बिलासपुर ईवीएम सील तोड़ी

चौक       मंडी       मॉक पोल डिलीट नहीं

ढालपुर    कुल्लू      मॉक पोल डिलीट नहीं

 

You might also like