नेताओं की हर गलती हो रही कैमरे में कैद

धर्मशाला    —लोकसभा चुनावों में पहली बार ऐसा देखने को मिल रहा है, जब नेताओं की हर गलती कैमरे में कैद हो रही है। गलतियों के वीडियो भी तुरंत सोशल मीडिया व वेब मीडिया में वायरल रहे हैं। छोटे नेताओं के साथ ही नहीं बल्कि दिग्गजों से लेकर हर प्रत्याशी या नेता के झूठ का वीडियो तुरंत वायरल हो रहा है। नेता ही नहीं प्रशासन की गलतियां भी तुरंत कैमरे में कैद हो रही हैं, जिसके चलते विभागीय नियमों को धरातल पर लागू करने के लिए निर्वाचन विभाग भी पूरी मुस्तैदी से काम कर रहा है। अब तक के पुराने रिकार्ड को देखें तो नेता या व्यक्ति का रुतबा देखकर ही कार्यवाही होती थी, लेकिन इस बार भाजपा-कांग्रेस सहित बडे़ दल के नेता या उनके झंडे पोस्टर हटाने की बात हो, तुरंत कार्रवाई हो रही है। पहले की अपेक्षा इन लोकसभा चुनावों में अधिक जागरुकता देखने में मिल रही है। नेताओं, राजनीतिक दलों या फिर प्रशासन की हर चूक को मोबाइल के कैमरा कैद कर रहे हैं। अब तक इनकी गलतियां पूरी तरह से उजागर नहीं हो पाती थीं, लेकिन इस बार चुनाव में हर वीडियो वायरल हो रहा है। इसका कुछ लोग दुरूपयोग कर मजे भी ले रहे हैं। लेकिन बड़ी बात यह है कि हर गलति आग की तरह फैल रही है। आलम यह है कि सोशल मीडिया पर सक्रिय रहने वाले लोग मजे लेने के लिए ऐसे फोटो या वीडियो को तुरंत अपलोड कर नेताओं की गलतियों को राडार पर ले रहे हैं। कहीं नेता की जुबान फिसले या फिर अधिकारी की, उसे हथियार बनाया जा रहा है।

बिना सहमति न पोस्टर, न दीवारों की पुताई

किसी की सहमति के बिना कोई राजनीतिक दल पोस्टर या झंडा किसी की दीवार पर लगाता है तो उसे तुरंत हटाया जा रहा है। ऐसा पहली बार देखने को मिल रहा है। इससे पूर्व  राजनीतिक दल व उनके प्रत्याशी दीवारों तक को रंग कर चले जाते थे, लेकिन इस बार हर हरकत कैमरे में कैद हो रही है। 

जीत के लड्डू भी जुड़ेंगे खर्चे में

चुनाव आयोग की सख्ती से प्रचार का सलीका भी बदल गया है। प्रत्याशियों को अपने खर्च का ब्यौरा चुनाव लड़ने तक ही नहीं बल्कि जीत के बाद बंटने वाले लड्डूओं का भी देना होगा। चुनाव आयोग ने प्रत्याशी के हर खर्च पर नजरें गड़ाई हुई हैं।

 

You might also like