परिजनों के मोबाइल कब्जे में

सुंदरनगर—बाल आश्रम डैहर में बच्चों से मारपीट व 11 वर्षीय बालक की पीजीआई में हुई मौत मामले वीडियो वायरल होने उपरांत पुलिस ने छानबीन को आगे बढ़ाते हुए मोबाइल को कब्जे में ले लिया है। पुलिस ने उसे फॉरेंसिक जांच के लिए शिमला स्थित जुन्गा फॉरेंसिक लैब में भेज दिया गया है। वहीं, पुलिस  मारपीट के लिए इस्तेमाल की गई लोहे की रोड को आश्रम से पहले ही बरामद कर कब्जे में ले चुकी है। गौरतलब है कि स्थानीय जनता के सुंदरनगर में प्रदर्शन उपरांत आरोपी वरिष्ठ छात्र व संस्थान के खिलाफ  एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने वरिष्ठ छात्र को तो नामजद कर लिया था, लेकिन अभी तक संस्थान प्रबधन व छात्र पर कोई शिकंजा नहीं कस पाई है। वहीं, धीमी गति से चलाई जा रही जांच पर ग्रामीण, परिजन व विभिन्न सामाजिक संस्थाओं ने आगामी कुछ दिनों में कड़ा रुख अपनाने का निर्णय लिया है। पुलिस के पास मृतक, संस्थान के बच्चों के वीडियो और परिजनों के ब्यान के आलावा मारपीट के साक्ष्य ना होने के चलते पुलिस मामले में फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। वहीं परिजनों द्वारा चंडीगढ़ पीजीआई व पुलिस के समक्ष शिकायत ना करवाने से अब जांच ढीली पड़ गई है। इससे पूर्व आश्रम द्वारा भी मामले पर पर्दा डालने के चलते बच्चे का साधारण इलाज करवाने से मेडिकल रिपोर्ट भी सही तैयार नही हो पाई है। जरूरी साक्ष्यों के अभाव के चलते अब पुलिस को अब जांच में भारी परेशानी पेश आ रही है। पुलिस ने बताया कि निष्पक्षता से जांच की जा रही है। जरूरी साक्ष्यों को जुटाया जा रहा है। दोषियों को किसी कीमत पर बख्शा नही जाएगा।

You might also like