परीक्षा परिणाम से घबराएं नहीं

 डा. राजन मल्होत्रा, पालमपुर

इस बार दसवीं की परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने पर छात्रा द्वारा आत्महत्या का प्रयास करना बेहद चिंता का विषय है। जीत और हार एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। अतः हमें अपनी हार पर निराश नहीं होना चाहिए। अभिभावकों को अपने बच्चों के परीक्षा परिणाम को लेकर उनके साथ अच्छे से पेश आना चाहिए, चाहे बच्चे कम नंबरों के साथ ही क्यों न उत्तीर्ण हुए हों। वैसे तो प्रत्येक मां-बाप अपने बच्चे के दुख-सुख में उनके साथ खड़े होते हैं, तो बच्चों को भी मां-बाप के प्रति अपने कर्त्तव्यों का स्मरण करते हुए, ऐसे गलत कदम उठाने से परहेज करना चाहिए।

 

You might also like