पश्चिम बंगाल में आज रात दस बजे तक ही चुनाव प्रचार

हिंसक राजनीति पर चुनाव आयोग का सबसे बड़ा एक्शन, धारा 324 का पहली बार सख्त इस्तेमाल

नई दिल्ली –  पश्चिम बंगाल में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो में हुए विवाद के बाद चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में चुनाव प्रचार के लिए एक दिन की कटौती की है। चुनाव आयोग ने कहा कि गुरुवार रात 10 बजे के बाद पश्चिम बंगाल की शेष नौ लोकसभा सीटों पर कोई चुनाव प्रचार नहीं होगा। पहले चुनाव प्रचार शुक्रवार शाम पांच बजे खत्म किया जाना था। चुनाव आयोग ने ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ति तोड़े जाने को भी दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। घटना पर ऐक्शन लेते हुए चुनाव आयोग ने एडीजी (सीआईडी) और राज्य के प्रधान सचिव (गृह) को भी हटा दिया है। चुनाव आयोग ने कहा कि शायद यह पहला मौका है, जब उन्होंने धारा 324 को इस तरह से लागू किया है। आयोग ने कहा कि यदि चुनाव के दौरान इस तरह की घटनाएं फिर दोहराई गईं तो फिर से सख्त कदम उठाया जाएगा। बता दें कि 19 मई को पश्चिम बंगाल की नौ सीटों पर चुनाव होना है, ऐसे में सभी राजनीतिक पार्टियां अपनी पूरी ताकत झोंक रही हैं। मंगलवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान खूब हंगामा हुआ। इस दौरान वहां के कालेज में ईसी विद्यासागर की मूर्ति भी क्षतिग्रस्त की गई। भाजपा और टीएमसी इस हिंसा के लिए एक-दूसरे पर आरोप लगा रही हैं। चुनाव आयोग ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि राज्य प्रशासन मूर्ति को क्षति पहुंचाने वाले को पकड़ लेगा।

क्या है अनुच्छेद 324

आर्टिकल 324 के तहत चुनाव आयोग ऐसे किसी भी मामले में दखल दे सकता है, जिनमें किसी प्रकार की गड़बड़ी या अस्पष्टता लग रही हो।  इसके तहत वह प्रशासन के अधिकारियों की तैनाती या छुट्टी, प्रचार के समय की अवधि तय करने, प्रचार के नियमन समेत कई महत्त्वपूर्ण फैसले ले सकता है।

कोलकाता में 58 उपद्रवी गिरफ्तार

कोलकाता – भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मंगलवार की चुनावी रैली के दौरान विद्यासागर कालेज होस्टल में  ईश्वरचंद्र विद्यासागर की प्रतिमा को खंडित किए जाने की घटना ने ज्वलंत रुख अख्तियार कर लिया है और वाम दलों के प्रमुख बड़े नेता इसके विरोध में  बुधवार को सड़कों पर उतर आए। इस बीच, पुलिस ने तृणमूल कांग्रेस और  भाजपा के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर दो अलग-अलग मामला दर्ज करके 58 लोगों को  गिरफ्तार किया है। दोनों पक्षों के बीच झड़प में काफी लोग घायल भी हुए हैं। वाम दलों के कद्दावर नेता प्रकाश करात, सीताराम येचुरी, सूर्यकांत मिश्र, विमान बोस और सुजान चक्रवर्ती की अगवाई में वाम मोर्चा कार्यकर्ताओं ने कालेज स्क्वायर से हेडुआ तक रैली निकाली और प्रदर्शन किया तथा घटना के पीछे वास्तविक तथ्यों का पता लगाने की लिए संपूर्ण मामले की जांच की मांग की। दूसरी तरफ तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ‘भाजपा के गुंडो’ द्वारा विद्यासागर कालेज में आगजनी और हमले की कड़ी निंदा की और कहा कि भाजपा के खिलाफ हर वोट मधुर और पूर्ण प्रतिशोध होगा। उन्होंने भाजपा पर हिंसा फैलाने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कोलकाता में रैली भी निकाली। उधर, भाजपा ने टीएमसी कार्यकर्ताओं को हिंसा के लिए दोषी बतोते हुए नई दिल्ली में जंतर-मंतर पर मौन रैली की। रैली में भाजपा के कई दिग्गज नेता मौजूद थे।

You might also like