पहले चरण का पूरा बजट खर्च, अब दूसरे का चाहिए

शिमला -भारत सरकार के निर्देषों के बाद हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय ने रूसा वन का पूरा बजट खर्च कर रूसा फेज़ टू के लिए बजट डिमांड भेज दी है। एचपीयू का यह प्रपोजल भारत सरकार को एचपीयू ने लगभग एक साल देरी से भेंजा है। एमएचआरडी की नई गाइडलाइन के तहत एचपीयू ने यह बजट प्लान भेजा है। बता दें कि भारत सरकार की रूसा टीम ने इससे पहले भी एचपीयू के एक प्रोपोजल को नामंजूर किया था। इसका कारण यह था कि एचपीयू ने रूसा फेज़ वन के बजट को यूटिलाइज नहीं किया था। इसमें शिक्षकों व गैर शिक्षकों के सुझाव भी नहीं लिए गए थे। यही वजह है कि भारत सरकार ने एचपीयू ने दूसरी बार प्रोपोजल तैयार करने को कहा था। विश्वविद्यालय ने भारत सरकार से रूसा फेज-टू के तहत मिलने वाले बजट का प्लान बनाने से पहले शिक्षकों और छात्रों से सुझाव इस बार लिए हैं। ऐसा पहली बार हुआ है, जब प्रदेश विश्वविद्यालय को बजट के लिए बनाए जाने वाले प्रोपोजल में शिक्षकों व गैर शिक्षकों के सुझाव को भी शामिल किया गया है। जानकारी के अनुसार एचपीयू ने बजट प्लान के लिए कमेटी का गठन किया था। कमेटी ने लिखित में सभी विभागों से सुझाव लिए थे। फिलहाल केंद्र की टीम ने एचपीयू को आश्वासन दिया है कि हिमाचल को रूसा के तहत अगर ज्यादा बजट की आवश्यकता है तो वह भी दिया जाएगा। बता दें कि हाल ही में एचपीयू को केंद्र की टीम ने रूसा के बजट को खर्च न करने और यूसी न भेजने पर फटकार लगाई थी। वहीं, एचपीयू को निर्देश दिए थे कि जिन भवन निर्माण कार्य को लेकर एचपीयू बजट खर्च नहीं कर पाया है, उस बजट को खर्च करने के बाद जल्द ब्यौरा भेजें। ऐसे में इस बार यह अहम रहेगा कि पहले के बजट को खर्च करने में असमर्थ रहे एचपीयू को केंद्र बढ़ा हुआ बजट देगा या नहीं। बता दें कि अभी तक राज्य के तीन ही कालेजों को ही फेज-टू के तहत रूसा की ग्रांट मिली है। वर्ष 2013 में लागू रूसा के तहत अभी भी प्रदेश को बजट की दरकार है। ऐसे में सवाल उठता है कि राज्य के जो सैकड़ों कालेज अभी तक पुराना बजट खर्च नहीं कर पाए हैं, उन्हें नया बजट मिल पाएगा या नहीं। गौर हो कि प्रदेश विश्वविद्यालय सहित कालेजों को केंद्र सरकार की दोटूक है कि तभी रूसा फेज-टू का बजट पुराना बजट खर्च करने के बाद ही मिलेगा।

प्रदेश में शुरू होना है रूसा का तीसरा चरण

बता दें कि प्रदेश में वर्ष 2020 में रूसा थ्री सिस्टम शुरू होना है। ऐसे में रूसा थ्री सिस्टम शुरू होने से पहले रूसा फेज़ टू के सारे कार्य एचपीयू सहित सभी कालेजों को पूरे करने होंगे। एचपीयू के लिए भी यह जरूरी है कि रूसा वन व टू के सभी कार्य इसी साल में पूरे किए जाएं।

 

You might also like