पांच दिन में एक लाख करोड़ का नुकसान

बाजार के नर्वस मूड-कमोडिटी में उछाल से रिलायंस को झटका 

मुंबई – पिछले पांच दिनों शेयर बाजार में हुई उठापटक का सबसे बड़ा असर रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड पर पड़ा है। इससे कंपनी को करीब एक लाख करोड़ का नुकसान उठा पड़ा है। बाजार के नर्वस मूड और कमोडिटी में उछाल ने रिलायंस को झटका दिया और इससे देश की सबसे वैल्युएबल कंपनी का खिताब भी छिन गया। टीसीएस दस जनवरी के बाद फिर से देश की सबसे वैल्युएबल कंपनी बन गई। शुक्रवार को टीसीएस का मार्केट कैप 8.01 लाख करोड़ था, जबकि रिलायंस का मार्केट कैप 7.93 लाख करोड़ था। जानकारों का कहना है कि विदेशी निवेशकों के पीछे हटने से मार्केट में गिरावट आई है। सेंसेक्स और निफ्टी में सबसे ज्यादा रुतबा रखने वाली रिलायंस को नुकसान भी सबसे ज्यादा हुआ है। तीन दिनों में विदेशियों ने भारतीय शेयर मार्केट से 2500 करोड़ रुपए मार्केट से निकाल लिए। शुक्रवार को पहले रिलायंस दो फीसदी के फायदे में थी, लेकिन बाद में नीचे आ गई। मॉर्गन स्टेनली ने रिलायंस डाउनग्रेड कर दिया है। वेनेजुएला और ईरान से गैस की आपूर्ति में कमी के साथ गैस और पॉलीईस्टर मार्केट में गिरावट की वजह से भी रिलायंस की कमाई में कमी आई है। जानकारों के मुताबिक, स्टॉक में गिरावट की वजह से भारती एयरटेल और रिलायंस जियो के बीच का अंतर भी कम हो गया है। मार्च में खत्म होने वाली तिमाही में मुकेश अंबानी की कंपनी ने नेट प्रॉफिट में 9.8 फीसदी की वृद्धि दिखाई थी। इस दौरान ग्रॉस रिफाइनरी का मार्जिन अपने 17 क्वार्टर में सबसे कम था। दूसरी तरफ टीसीएस का प्रदर्शन उम्मीद से बेहतर रह। इस साल टीसीएस के शेयरों में 12.8 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

You might also like