पांवटा के किसानों ने बेची 82 लाख की गेहूं

पांवटा साहिब—मात्र 20 दिनों के भीतर पांवटा के किसानों ने 82 लाख रुपए से अधिक का गेहूं बेच दिया है। पांवटा साहिब की अनाज मंडी में स्थापित भारतीय खाद्य निगम के गेहूं खरीद केंद्र में पांवटा के किसानों ने करीब साढ़े चार हजार क्विंटल गेहूं बेचा है। अभी गेहूं की आमद जारी है। जानकारी के मुताबिक गत वर्ष एफसीआई के खरीद केंद्र में किसानों ने कुल करीब आठ हजार क्विंटल गेहूं बेचा था। इस बार भी उम्मीद की जा रही है कि गेहूं खरीद के आंकड़े में एफसीआई पिछले साल के टारगेट तक पहुंच जाएगी। वैसे भी इस बार एफसीआई किसानों को तोहफा देते हुए प्रति क्विंटल गेहूं के दाम मंे 105 रुपए वृद्धि की है। इस बार किसानों को प्रति क्विंटल गेहूं के दाम 1840 रुपए मिल रहे हैं। जानकारी के मुताबिक पांवटा अनाज मंडी में स्थिति एफसीआई के गेहूं खरीद केंद्र में अभी तक किसानों द्वारा साढ़े चार हजार क्विंटल से अधिक गेहूं बेचा जा चुका है। यह गेहूं सिर्फ 20 दिन मंे एफसीआई के पास पहुंचा है, जिससे संभावना जताई जा रही है कि पिछली साल की तरह इस बार भी यह आंकड़ा आठ हजार क्विंटल तक पहुंच सकता है। आजकल प्रतिदिन 600 से 700 क्विंटल गेहूं एफसीआई के पास पहुंच रहा है। फूड कारपोरेशन ऑफ इंडिया इस बार भी किसानों के गेहूं की पेमेंट ऑनलाइन कर रही है। इसके लिए संबंधित किसान के खाते में आरटीजीएस की जा रही है। इसका मुख्य कारण यह भी है कि इस प्रक्रिया से जहां पेमेंट सीधा किसानों के खाते में जाएगी, वहीं कोई ठेकेदार अपनी गेहूं यहां नहीं बेच पाएगा। एफसीआई के गुण निरीक्षक राजकृष्ण नेगी ने बताया कि एसबीआई से एसबीआई मंे 24 घंटे के भीतर किसानों के उत्पाद की पेमेंट हो रही है, जबकि अन्य बैंक के लिए एक या दो दिन लग सकते हैं। यह सब किसानों की सुविधा के लिए किया गया है। उन्होंने बताया कि अभी तक उनके पास साढ़े चार हजार क्विंटल से अधिक गेहूं पहुंच चुका है, जिसकी कीमत लगभग 82 लाख रुपए से अधिक है। गेहूं की आमद अभी जारी है।

You might also like