पांवटा, ठियोग में पोलिंग से ज्यादा वोट

मतगणना की पहुंची रिपोर्ट्स तो उजागर हुई चुनाव कर्मचारियों की होशियारी

शिमला —चुनाव आयोग पहुंची मतगणना की रिपोर्ट में हिमाचल के दो मतदान केंद्रों पर पोलिंग से ज्यादा वोट निकले हैं। शिमला जिला के ठियोग के मतदान केंद्र बंसीरा तथा सिरमौर जिला के पांवटा के पोलिंग स्टेशन भुटनपुर में यह गड़बड़ उजागर हुई है। असल में इन दोनों मतदान केंद्रों पर भी पोलिंग पोर्टियां मॉक पोल के 50-50 वोट डिलीट करना भूल गई। इस भयंकर चूक के बाद पोलिंग पार्टियों ने कार्रवाई के डर से इस बात को दबा दिया और चुनाव आयोग की आंखों में धूल झोंक दी। जाहिर है कि मतदान के दौरान कुल्लू, मंडी तथा सोलन जिला के पांच मतदान केंद्रों पर भी चुनाव कर्मी मॉक पोल के मत डिलीट करना भूल गए थे। इसके चलते चुनाव आयोग ने पांचों मतदान केंद्रों के अधिकारी एवं कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया था। इस कार्रवाई के डर से बंसीरा तथा भुटनपुर पोलिंग स्टेशन के चुनाव कर्मियों ने इस भयंकर चूक को उच्च अधिकारियों को बताने के बजाय छिपा लिया। बताते चलें कि चुनाव विभाग ने प्रदेश भर के मतदान केंद्रों के वीवीपैट तथा ईवीएम के मिलान की रिपोर्ट तलब की है। शनिवार को राज्य चुनाव अधिकारी देवेश कुमार की  टेबल पर रखी गई इन रिपोर्ट्स के अध्ययन पर इस गड़बड़ी का खुलासा हुआ है। रिपोर्ट में पता चला है कि बंसीरा तथा भुटनपुर में सी फार्म नंबर 17 में दर्ज कुल मतों की संख्या तथा कंट्रोल यूनिट में दर्शाए गए मतों में 50 वोट का अंतर है। इस आधार पर इन मतदान केंद्रों की वीवीपैट का मिलान देखा गया। इससे स्पष्ट हुआ कि दोनों मतदान केंद्रों के चुनाव कर्मियों ने मॉक पोल के 50-50 वोट डिलीट नहीं किए थे।  हालांकि मतदान के दौरान ही उन्हें इस भयंकर चूक का एहसास हो गया था। इस कारण मॉक पोल की वीवीपैट पर्चियों को बाहर निकाल दिया था। इस कारण मतदान केंद्र में वास्तव में पड़े वोटों को ही लिया गया था। कंट्रोल यूनिट में दर्ज 50 वोटों को गिनती में शामिल नहीं किया था। इसके चलते मतगणना के दौरान कुल पड़े मतों और गिनती में वैध मतों की संख्या में 50 वोट का अंतर था। इस कारण इन दोनों केंद्रों की वीवीपैट का मिलान किया गया। इसके चलते मतगणना में वीवीपैट को आधार मान कर वोटों की गिनती शामिल की गई। बहरहाल राज्य चुनाव विभाग को भेजी गई रिपोर्ट में चुनाव कर्मियों में इस होशियारी को पकड़ लिया गया है।

You might also like