पानी दे दो, कहीं चुनाव में पानी न पिला दें

पांवटा साहिब—गर्मी अभी शुरू हुई ही है लेकिन गिरिपार क्षेत्र मंे पीने के पानी की किल्लत अभी से फन उठाने लगी है। आजकल क्षेत्र के कई गांवों में पानी की किल्लत सामने आ रही है, जिससे ग्रामीणों में सरकार और विभाग के प्रति रोष पनप रहा है। लोग कहते सुनाई दे रहे हैं कि उन्हें समय पर पानी पहुंचा दो कहीं ऐसा न हो कि रोषित जनता चुनाव मंे नेताओं को पानी पिला दे। जानकारी के मुताबिक कफोटा आईपीएच उपमंडल के तहत करीब आधा दर्जन गांव में पानी की समस्या सामने आ चुकी है। इसमें क्षेत्र के टटियाणा, कफोटा के खजूरी उपगांव, कांटीमश्वा और ढाब पिपली आदि गांव मंे पीने के पानी की लंबे समय से समस्या उत्पन्न हो रही है। कांटीमश्वा के लोगों ने तो एसडीओ कार्यालय का घेराव करने तक की चेतावनी दे डाली है। वहीं ढाब पीपली की बात करें तो कई महीनों से खलियांटी और निगाली में पीने के पानी की किल्लत है। खलियांटी निवासी रणजीत कंवर और उजागर सिंह कंवर आदि ने बताया कि लंबे समय से वह पीने के पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। लाइनमैन काम पर आते ही नहीं। वह पाइप भी खुद ढोकर मौके पर छोड़ चुके हैं, लेकिन उन्हें जोड़ने में भी कई दिनों तक आनाकानी होती रही। उनका कहना है कि क्या कर्मचारी, अधिकारी और नेताओं के कहने के बाद ही कार्य करेंगे। क्या उनकी जिम्मेवारी नहीं बनती कि अपनी लाइन को दुरुस्त कर लोगों तक पानी पहुंचाएं। कर्मचारियों की यह राजनीति कहीं नेताओं को पानी न पिला दें। उधर, आईपीएच मंडल शिलाई के अधिशाषी अभियंता का कहना है कि जहां से भी पेयजल किल्लत की सूचना आ रही है। वहां पर समस्या का शीघ्र समाधान किया जा रहा है। लोगों तक पानी पहुंचाना विभाग का प्राथमिक लक्ष्य है। कहीं से किसी कर्मचारी की लापरवाही सामने आती है तो उन्हें सूचना दें। वह निश्चित तौर पर उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे।

You might also like