पारा 40 डिग्री के पार, बिल जमा करवाने को लगी कतार

पांवटा साहिब—पांवटा विद्युत मंडल के अंतर्गत विभाग का एकमात्र बिल कलेक्शन सेंटर होने के कारण शहर की हजारों की जनता को दिक्कतों का समाना करना पड़ रहा है। शहर के 13 वार्डों सहित आसपास की कई पंचायतों के करीब 28 हजार विद्युुत उपभोक्ता सुविधा की कमी से परेशान हैं। पहले यहां के गुरुद्वारा के समीप विद्युत शिकायत केंद्र पर बिजली के बिल जमा होते थे, लेकिन वह केंद्र काफी पहले बंद हो चुका है जिससे अब केवल बद्रीपुर सब-स्टेशन में विद्युत के बिल जमा हो रहे हैं। यहां पर भी 40 डिग्री सेल्सियस तापमान में टीन शैड के नीचे एकमात्र पंखे के नीचे उपभोक्ताओं को बिल जमा करवाने पड़ रहे हैं। जानकारी के मुताबिक बद्रीपुर में हर महीने विद्युत बिलों को जमा करने के लिए लंबी लाइनें लगी रहती हैं। उपभोक्ताओं को घंटों अपना बिल जमा करने के लिए लाइनों में लगा रहना पड़ता है। इसके बाद ही बिल जमा करने का नंबर पड़ता है। महिलाओं को भी कई घंटों तक लाइनों में लगा रहना पड़ता है। शहरवासियों ने कई बार विद्युत बोर्ड व सरकार को शहर में एक ओर केंद्र बनाने की मांग की है, लेकिन स्थिति जस की तस है। पांवटा के बद्रीपुर में ही सबसे ज्यादा भीड़ लगी रहती है। कई बार विद्युत के बिलों में देरी से भी लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। विद्युत बिल जमा करने की अंतिम तिथि के बाद उपभोक्ता को पैनल्टी जमा करनी पड़ती है। इसलिए उपभोक्ता समय पर बिल जमा करने के लिए लाइन में लग जाते हैं। पांवटा शहर व पंचायत के लोगों मनमोहन सिंह, आशा देवी, देवी सिंह, प्रमोद कुमार, सुंदर सिंह, अमरजीत सिंह, मनजीत सिंह, अतर सिंह, मदन सिंह व कमला आदि ने बताया कि विद्युत बोर्ड को कई बार बिजली के बिलों के लिए शहर में विद्युत संग्रह केंद्र खोलने की मांग की गई, परंतु इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया। यदि पंचायत के बिलों के लिए अलग केंद्र और शहर के लिए मेन बाजार के समीप ही संग्रह केंद्र खोला जाए तो लोगों को परेशानी दूर हो सकती है। उधर, इस बारे में विद्युत विभाग के पांवटा मंडल के सहायक अभियंता मुकेश कुमार ने बताया कि विद्युत बोर्ड के पास स्टाफ की कमी है। शहर का संग्रह केंद्र पहले ही बंद हो चुका है। बद्रीपुर में सामान्य, महिलाओं और वरिष्ठ नागरिकों के लिए तीन काउंटर बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता ऑनलाइन व लोकमित्रों केंद्रों पर भी अपने बिल जमा करवा सकते हैं। ऑनलाइन बिलिंग को प्रोत्साहित करने के लिए विभाग ने अब 10 रुपए कैशबैक का ऑफर भी अप्रैल माह से शुरू किया है। उन्होंने माना कि बिल जमा करने के लिए भारी भीड़ रहती है। पांवटा के सीनियर सिटीजनों का कहना है कि बिल जमा करने का कार्य बैंक के अधीन भी लाया जाना चाहिए। वहां पर कम से कम बैठने और पानी की सुविधा तो होती है। यहां पर तो खड़े-खड़े धूप में चक्कर आने लगते हैं। बद्रीपुर बिल संग्रह केंद्र में हालांकि टीन का शैड् बनाया हुआ है, लेकिन उसके नीचे आम जनता की लाइन रहती है। सीनियर सिटीजन का काउंटर केंद्र के राइट साइड है, जहां शैड् तक नहीं है। मई महीने की भरी धूप मंे भी बुजुर्ग लोग बिना शैड् के बिल जमा करवाने खड़े रहे।

You might also like