पार्वती घाटी में सैलानियों की बहार

भुंतर—आम चुनावों की गर्माहट और मैदानों की तपिश के बीच देश-विदेश के पर्यटक पार्वती घाटी की खूबसूरती को निहारने के लिए पहुंचने लगे हैं। देश के विभिन्न हिस्सों में चुनावों के निपट जाने के बाद अब सैलानी कुल्लू-मनाली की वादियों में घूमने का शेड्यूल फाइनल करने लगे हैं और इसका असर कुछ दिनों से यहां आने वाले मेहमानों की बढ़ती संख्या में इजाफे के तौर पर देखा जा रहा है। लिहाजा, समर पर्यटन सीजन से जिला कुल्लू की पार्वती घाटी गुलजार होने लगी है। पर्यटन कारोबारियों की माने तो धार्मिक नगरी मणिकर्ण सहित पिन-पार्वती के पर्यटक ठिकानों को निहारने के लिए हर रोज हजारों की तादाद में देश-विदेश से सैलानी पहुंच रहे हैं। हालांकि अभी चुनाव निपटने तक यह संख्या थोड़ी कम रहने वाली है और जून माह से इसमें तेजी आएगी। मणिकर्ण के अलावा कसोल, बरशैणी, खीरगंगा, मलाणा में सैलानियों ने रौनक ला दी है। सैलानियों की गर्म पानी में डुबकी लगाने की चाहत इन्हंे घाटी की ओर खींच रही है तो बरशैणी और खीरगंगा तक भी सैलानियों के कदम बढ़ने लगे हैं। सैलानियों की भरमार के चलते घाटी के होटल भी पैक होने लगे हैं और होटल कारोबार से जुड़े लोगों की जेबे भी भरने लगी है। यहां के सभी होटल इस समय 90 फीसदी तक बुक बताए जा रहे है। पर्यटकों को यहां का कूल-कूल मौसम भाने लगा है। बताते चलें कि चुनावों के कारण पर्यटन स्थलों पर पिछले साल की तुलना में अभी सैलानी कम है। इसके अलावा पिछले कुछ अरसे से घाटी के सबसे ज्यादा होटलों और अपंजीकृत कारोबारियों पर प्रशासन का चाबुक चलने से भी सैलानियों को भी परेशानी हुई थी। पार्वती घाटी होटल एसोसिएशन के प्रधान किशन ठाकुर ने बताया कि पर्यटकों के वेलकम को खास इंतजाम इस बार है और बेहतर सुविधाएं संचालक प्रदान कर रहे हैं।

जाम कर रहा परेशान

सैलानियों के कदम पार्वती घाटी की ओर बढने के साथ ही यहां पर जाम भी परेशान कर रहा है। बताया जा रहा है कि हर रोज करीब सैंकड़ों ठोटे-बड़े वाहन यहां पर पहुंच रहे हैं इसके कारण मणिकर्ण, कसोल, जरी सहित अन्य स्थानों पर जाम भी लग रहा है। उधर, शालिनी अग्निहोत्री, पुलिस अधीक्षक कुल्लू का कहना है कि पार्वती घाटी में सैलानियों की सुरक्षा और ट्रैफिक कंट्रोल की पूरी व्यवस्था की गई है, ताकि सैलानी परेशान न हों।

You might also like