पिता-पुत्र हारे, मां-बेटे जीते

नई दिल्ली – लोकसभा चुनाव में इस बार जहां पिता-पुत्र की जोडिय़ों को हार का सामना करना पड़ा है वहीं लोगों ने मां-बेटों की जोडिय़ों को जीता कर संसद भेजा है। सत्रहवीं लोकसभा चुनाव के परिणामों में उत्तर प्रदेश, हरियाणा और कर्नाटक से संसद में जाने के लिए मैदान में उतरे पिता-पुत्रों और एक ही परिवार के सदस्यों को हार का मुंह देखना पड़ा है, जबकि उत्तर प्रदेश में मां-बेटों की जोड़ी के सिर जीत का सेहरा बंधा है। हरियाणा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र ङ्क्षसह हुड्डा को सोनीपत तथा उनके पुत्र दीपेंद्र हुड्डा को रोहतक से हार मिली है। उत्तर प्रदेश में पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण ङ्क्षसह के पुत्र और पूर्व केंद्रीय मंत्री अजीत ङ्क्षसह तथा उनके बेटे जयंत चौधरी को भी हार का सामना करना पड़ा है। उत्तर प्रदेश में मां-बेटे की जोड़ी ने जीत दर्ज कर दोबारा संसद में जगह बनाई है। एक और वरुण गांधी और मेनका गांधी ने जीत दर्ज की। वहीं, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी तथा उनके पुत्र राहुल गांधी ने भी चुनाव जीतकर संसद में प्रवेश किया है।

You might also like