पीएम-सीएम के नाम पर वोट मांग रहे रामस्वरूप

आश्रय शर्मा का रामस्वरूप पर हमला, विक्रमादित्य सिंह ने कांग्रेस को जीताने का किया आह्वान

कुल्लू —मंडी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी आश्रय शर्मा ने गुरुवार को आनी व रामपुर विधानसभा क्षेत्र का दौरा कर चुनाव प्रचार किया। इस मौके पर शिमला ग्रामीण के विधायक विक्रमादित्य सिंह भी उनके साथ रहे। दोनों विधानसभा क्षेत्र में पहुंचने पर युवा वर्ग, महिला व बजुर्गों ने बढ़-चढ़कर कार्यक्रम में हिस्सा लिया। आश्रय शर्मा ने इस दौरान अपने संबोधन में कहा कि केंद्र सरकार ने हिमाचल की भोली भाली जनता के साथ धोखा किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिमाचल को अपना दूसरा घर कहते हंै, लेकिन आज तक प्रधानमंत्री ने हिमाचल को इन पांच सालों में कोई नई सौगात नहीं दी। युवाओं को रोजगार और महंगाई कम करने का नारा देकर भाजपा सत्ता में आई। उनके पांच वर्ष पूरे होने के बाद भी किए गए वादे पूरे नहीं हो पाए हैं। आश्रय शर्मा ने कहा कि मंडी के सांसद तो मंडी से लापता रहे और संसदीय क्षेत्र के लोगों की आवाज भी संसद में नहीं उठा पाए। उन्होंने कहा कि अब पांच साल बाद फिर से जनता के बीच सांसद जा रहे हैं, लेकिन लोग उन्हें पहचान नहीं रहेंं हैं, क्योंकि जनता को सांसद रामस्वरूप शर्मा पांच साल बाद आज ही वोट मांगते दिखाई दे रहे हंंै। आज मंडी लोकसभा क्षेत्र की जनता सांसद से उनके कामों का हिसाब मांग रही हैं, लेकिन सांसद सीएम ओर पीएम के नाम से जनता से भीख मांगते फिर रहे हंै। क्योंकि वह खुद तो मंडी लोकसभा क्षेत्र का विकास नहीं करवा पाए। इस लिए अब वह सीएम ओर पीएम के नाम का सहारा ले रहे हैं। आश्रय शर्मा ने कहा कि मंडी की जनता जागरूक ओर समझदार हंै। वह रामस्वरूप के स्वरूप को अच्छी तरह से पहचान गई है और अब उन्हें जनता उनकी हार से साथ अपना बदला लेना चाहती है। उन्होंने कहा कि मंडी लोकसभा क्षेत्र का विकास मेरी प्राथमिकता है और मैं इसके लिए वचनबद्ध हूं। आश्रय ने पत्रकारों द्वारा उनके पिता के प्रचार में साथ आने के सवाल पर कहा कि उनके पिता आज भाजपा से विधायक हैं। भाजपा में वह अपने सम्मान के लिए गए थे, लेकिन सम्मान नहीं मिला तो उन्होंने अपने मंत्री पद को त्यागने में देर नहीं लगाई। वहीं अपने संबोधन में विक्रमादित्य सिंह ने भाजपा पर हमला बोलते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को जुमला सरकार करार दिया।

 

You might also like