पोते को बना दिया दल-बदलू

शांता कुमार का सुखराम पर बड़ा हमला; बोले, वोट शहीदों की शहादत की अमानत

मंडी -विजय संकल्प रैली से शांता कुमार ने पंडित सुखराम और उनके पोते आश्रय पर बड़ा हमला बोला। शांता कुमार ने कहा कि वोट शहीदों की शहादत की अमानत है। इसे पांच बार दल-बदलू नेता की ख्वाहिश और उनके नौसिखिए पोते को देकर जाया नहीं किया जा सकता। शांता कुमार ने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि वोट का अधिकार हमें किसी पार्टी या नेता ने नहीं दिया। यह किसी की जागीर नहीं है। 1857 से 1947 तक लाखों देशभक्तों के बलिदान से भारत आजाद हुआ और देश का संविधान बना और हमें वोट का अधिकार मिला। वोट शहीदों की शहादत की अमानत है। देश का भला सोच पांच बार दल बदलने वाले किसी दल-बदलू नेता की ख्वाहिश को पूरा करने के लिए उनके नौसिखिए पोते को देकर वोट जाया नहीं किया जा सकता। आगे शांता ने सुखराम पर निशाना साधते हुए कहा कि मुझे एक बात का दुख है कि कभी हरियाणा बदनाम हुआ था, जब पूरी भजन मंडली लेकर भजन लाल चले गए था आया राम गया राम के कारण। इस बार हिमाचल बदनाम हो गया। इतने पुराने नेता पांचवीं बार दल-बदल किए और राजनीति में जन्म लेने से पहले ही अपने पोते को दल-बदलू बना लिया। इसके अलावा पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद शांता ने कहा कि देश में आज भी गरीबी और बेरोजगारी है और इसका एक मुख्य कारण बेईमानी है। इस दौरान उन्होंने केंद्र में मंत्री रहते हुए बेईमानी का सामना करते हुए क्रप्शन खत्म करने की बात भी जनता से साझा की। अंत में शांता कुमार ने कहा कि बतौर सांसद यह उनकी आखिरी मुलाकात है।

 

You might also like